Take a fresh look at your lifestyle.

Taza Hawa Lete Hai Lyrics

0 761

Taza Hawa Lete Hai lyrics

Song Lyrics from the Album Tum To Thahre Pardesi (album). The album was released in the year 1993. Music was composed by Mohammed Shafi Niyazi and lyrics were penned by Zaheer.

Movie: Tum To Thahre Pardesi (album)

Singer/Singers: Altaf Raja

Music Director: Mohammed Shafi Niyazi

Lyricist: Zaheer Alam

Actors/Actresses: Altaf Raja

Year/Decade: 1993

Music Label: Venus Records

Song Lyrics in English Text

Hum Wo Diwane Hai
Hum Wo Diwane Hai Jo Taja Hawa Lete Hai
Hum Wo Diwane Hai Jo Taja Hawa Lete Hai
Khidkiya Khol Ke Mausam Ka Maja Lete Hai
Khidkiya Khol Ke Mausam Ka Maja Lete Hai
Khidkiya Khol Ke Mausam Ka Maja Lete Hai
Hum Wo Diwane Hai

Hamko Us Waqt Najar Taj Mahal Aata Hai
Sach Bata Aye Meri Bholi Bhali
Tu Hai Kis Desh Ki Rahne Wali
Tera Chokash Marathi Badan Hai
Raj Puti Tera Bak Pan Hai
Julf Bangal Ki Kali Kali
Nagna Aasam Ki Tujhme Payi
Dekhne Ki Ada Hai Bihari
Udisa Ki Hai Tujhme Khumari
Aandhra Ke Namak Me Dhali Hai
Or Kashmir Ki Tu Kali Hai
Lakhnau Jaisi Hai Tujhme Najakat
Madhya Pardesh Ki Hai Shararat
Sadgi Tujhme Madrash Ki Hai
Khusbu Maisur Ki San Dili Hai
Bholapan Tujhme Gujrat Ka Hai
Kerla Ka Tu Roshan Diya Hai
Tune Payi Hai Goa Ki Masti
Tujhme Punjab Ki Tand Rushti
Dil Ki Dilli Teri Raj Dhani
Dil Ki Dilli Teri Raj Dhani
Sari Dunia Teri Hai Diwani
Sari Dunia Teri Hai Diwani
Sari Dunia Teri Hai Diwani

Hamko Us Waqt Nazar Taj Mahal Aata Hai
Hamko Us Waqt Nazar Taj Mahal Aata Hai
Jab Wo Angdayi Ko
Jab Wo Angdayi Ko Hath Apna Utha Lete Hai
Jab Wo Angdayi Ko Hath Apna Utha Lete Hai
Khidkiya Khol Ke Mausam Ka Maja Lete Hai
Khidkiya Khol Ke Mausam Ka Maja Lete Hai
Khidkiya Khol Ke Mausam Ka Maja Lete Hai
Hum Wo Diwane Hai

Song Lyrics in Hindi Font/Text

हम वो दीवाने हैं जो ताज़ा हवा लेते हैं
खिड़कियाँ खोल के मौसम का मज़ा लेते हैं
खिड़कियाँ खोल के …

ऐसा लगता है उन्हें इश्क़ हुआ है हम से
सामना होते ही नज़रों को झुका लेते हैं
खिड़कियाँ खोल के …

पीने वाला ही नहीं कोई हमारे जैसा
हम जहाँ जाते हैं मैखाना बना लेते हैं
खिड़कियाँ खोल के …

हम को उस वक़्त नज़र ताजमहल आता है

सच बता दे ऐ भोली भाली
तू है किस देस की रहने वाली
तेरा चौकस मराठी बदन है
ओ राजपूती तेरा बाँकपन है
ज़ुल्फ़ बंगाल की काली काली
नागन आसाम की तुझ में पाई
देखने की अदा है बिहारी
उड़ीसा की है तुझ में खुमारी
आंध्रा के नमक में ढली है
और कश्मीर की तू कली है
ळखनऊ जैसी है तुझ में नज़ाकत
मध्यप्रदेश की है शरारत
ताजगी तुझ में मद्रास की है
खुश्बू मैसूर की संदली है
भोलापन तुझ में गुजरात का है
केरला का तू रोशन दिया है
तूने पाई है गोवा की मस्ती
तुझमें पंजाब की तंदुरुस्ती
दिल की दिल्ली तेरी राजधानी
सारी दुनिया तेरी है दीवानी

हम को उस वक़्त नज़र ताजमहल आता है
जब वो अंगड़ाई को हाथ अपने उठा लेते हैं
खिड़कियाँ खोल के …

Leave A Reply

Your email address will not be published.