Take a fresh look at your lifestyle.

Shayad Phir Se शायद फिर से Lyrics in Hindi

0 366

Shayad Fir Se Lyrics in hindi, by Kirat Gill. This song is sung by Rahul Vaidya and the song was released in the year 2021. Music was composed by Barrel and lyrics were penned by Kirat Gill.

Movie Details

Singer/Singers: Rahul Vaidya

Music Director: Barrel

Lyricist: Kirat Gill

Year/Decade: 2021

Music Label: Nupur Audio

Song Lyrics in English Text

Chalo fir se milte hain
Ikrar karne ko
Jo baatein adhuri reh gayi thi
Use izhar karne ko
Chalo fir se milte hain

Jo bhi humse gustakhi huyi
Chalo bhool ke bas ab pyaar karein
Tum shaamon mein fir sun’ne aao
Fir ishq pade gulzar bane

Bahut kar li baatein logon ne
Bas ab aur na ho deri
Bahut ab beet liye savan
Phir us hawa se milte hain

Jahan pehli baar gale mile
Uss jagah pe milte hain
Shayad fir se dil mil jayein
Uss wajah se milte hain

Jahan pehli baar gale mile
Uss jagah pe milte hain
Shayad fir se dil mil jayein
Uss wajah se milte hain

Dekh ke sitaron ko fir se unn baharon ko
Dil ke beemaron ko dawa di jaye
Fir se muskurate hain chal chand ko bulate hain
Haathon ko mila ke fir dua ki jaye

Baat itni si hi to thi
Baat ko yahin chhodte hain
Kirat se fir se pyaar ho jaye
Bas uss tarah se milte hain

Jahan pehli baar gale mile
Uss jagah pe milte hain
Shayad fir se dil mil jayein
Uss wajah se milte hain

Pehle to chup se rahenge
Fir dheeme se bolenge
Kaandhe pe sar rakh unke
Bahane se ro lenge

Woh thoda thoda ladte rahenge
Par bichhadne ka dar bhi rahega
Hothon se shikwe kiye jo sab
Aansuon se dho lenge

Jale pannon ki kahaani ko
Sunane ka mauka toh do
Yeh mauke dil ko jod de jo
Bas ek dafa hi milte hain

Jahan pehli baar gale mile
Uss jagah pe milte hain
Shayad fir se dil mil jayein
Uss wajah se milte hain

Song Lyrics in Hindi Text

चलो फिर से मिलते हैं
इकरार करने को
जो बातें अधूरी रह गयी थी
उसे इज़हार करने को
चलो फिर से मिलते हैं

जो भी हमसे गुस्ताखी हुई
चलो भूल के अब बस प्यार करें
तुम शामों में फिर सुनने आओ
फिर इश्क़ पड़े गुलज़ार बने

बहुत करली बातें लोगों में
बस अब और ना हो देरी
बहुत अब बीत लिए सावन
फिर उस हवा से मिलते हैं

जहाँ पहली बार गले मिले
उस जगह पे मिलते हैं
शायद फिर से दिल मिल जाए
उस वजह से मिलते हैं

जहाँ पहली बार गले मिले
उस जगह पे मिलते हैं
शायद फिर से दिल मिल जाए
उस वजह से मिलते हैं

देख के सितारों को
फिर से उन बहारों को
दिल के बीमारों को दावा दी जाए

फिर से मुस्कुराते हैं चल
चाँद को बुलाते हैं
हाथों को मिला के फिर
दुआ की जाए

बात इतनी सी ही तो थी
बात को यही छोड़ते हैं
किरत से फिर से प्यार हो जाए
बस उस तरह से मिलते हैं

जहाँ पहली बार गले मिले
उस जगह पे मिलते हैं
शायद फिर से दिल मिल जाए
उस वजह से मिलते हैं
हो हो हो..

पहले तो चुप से रहेंगे
फिर धीमें से बोलेंगे
काँधे पे सर रख उनके
बहाने से रो लेंगे

वो थोड़ा-थोड़ा लड़ते रहेंगे
पर बिछड़ने का डर भी रहेगा
होंठों से शिकवे किए जो सब
आंसुओं से धोलेंगे

जले पन्नों की कहानी को
सुनाने का मौक़ा तो दो
ये मौक़े दिल को जोड़ के जो
बस एक दफ़ा ही मिलते हैं

जहाँ पहली बार गले मिले
उस जगह पे मिलते हैं
शायद फिर से दिल मिल जाए
उस वजह से मिलते हैं

Leave A Reply

Your email address will not be published.