Take a fresh look at your lifestyle.

Piku – Title Song, Song Lyrics

0 78
Piku - Title Song
Piku – Title Song Lyrics

Piku – Title Song, Song Lyrics from Movie Piku. This Song sung by Anupam Roy, Shreya Ghoshal, Sunidhi Chauhan. Music given by Anupam Roy & Lyrics written by Anupam Roy, Manoj Yadav. Star cast of this movie are Amitabh Bachchan, Deepika Padukone, Irrfan Khan, Jishu Sengupta, Raghuveer Yadav, Moushumi Chatterjee, Akshay Oberoi

Movie Details

Movie: Piku

Singer/Singers: Anupam Roy, Shreya Ghoshal, Sunidhi Chauhan

Music Director: Anupam Roy

Lyricist: Anupam Roy, Manoj Yadav

Actors/Actresses: Amitabh Bachchan, Deepika Padukone, Irrfan Khan, Jishu Sengupta, Raghuveer Yadav, Moushumi Chatterjee, Akshay Oberoi

Year/Decade: 2015

Music Label: Zee Music Company

Song Lyrics in English Text

Subah Ki Dhoop Pe Isi Ki Dastkhat Hai
Isi Ki Roshni Udi Jo Har Taraf Hai
Ye Lamho Ke Kuve Mein Roz Jhaankti Hai
Ye Jaake Waqt Se Hisaab Maangti Hai
Ye Paani Hai Ye Aag Hai, Ye Khudi Likhi Kitaab Hai
Pyaar Ki Khuraak Si Hai Piku
Subah Ki Dhoop Pe Isi Ki Dastkhat Hai
Panna Saanso Ka Palte Aur Likhe Unpe Mann Ki Baat Re
Lena Isko Kya Kis Se, Isko Toh Bhaaye Khud Ka Saath Re
Uh Oh Barish Ki Boond Jaisi, Sardi Ki Dhundh Jaisi
Kaisi Paheli Iska Hal Na Mile
Kabhi Ye Aasmaan Utaarti Hai Neeche
Kabhi Ye Bhaage Aise Baadalon Ke Peeche
Isey Har Dard Ghoont Jaane Ka Nasha Hai
Karo Jo Aaye Jee Mein Iska Falsafa Hai
Ye Paani Hai Ye Aag Hai, Ye Khudi Likhi Kitaab Hai
Ye Pyaar Ki Khuraak Si Hai Piku
Mode Raaho Ke Chehre, Isko Jaana Hota Jis Ore Hai
Aise Sargam Sunaaye, Khud Iske Sur Hain Iske Raag Re
Uh Oh Roothe Toh Mirchi Jaisi, Hans De Toh Cheeni Jaisi
Kaisi Paheli Iska Hal Na Mile
Subah Ki Dhoop Pe Isi Ki Dastkhat Hai
Isi Ki Roshni Udi Jo Har Taraf Hai
Ye Lamho Ki Kuve Mein Roz Jhaankti Hai
Ye Jaake Waqt Se Hisaab Maangti Hai
Ye Paani Hai Ye Aag Hai, Ye Khudi Likhi Kitaab Hai
Pyaar Ki Khuraak Si Hai Piku
Subah Ki Dhoop Pe Isi Ki Dastkhat Hai

Song Lyrics in Hindi Font/Text

सुबह की धुप पे इसी के दस्तखत है
इसी की रौशनी उडी जी हर तरफ है
यह लम्हो केर कुवे में रोज़ झांकती है
यह जाके वक़्त से हिसाब मांगती है
यह पानी है यह आग है
यह खुद लिखी किताब है
प्यार की खुराक सी है पिकू
सुबह की धुप पे इसी के दस्तखत है

पन्ना साँसों का पालते
और लिखे उनपे मन की बात रे
लेना इस को क्या किस से
इस को तो भाये खुद का साथ रे
बारिश की बून जैसी
सर्दी की धुंध जैसी
कैसी पहेली इसका हल न मिले

कभी यह आस्मा उतरती है निचे
कभी यह भागे ऐसे बादलों के पीछे
इसे हर दर्द घूँट जान का नशा है
करो जो आये जी में इसक फलसफा है
यह पानी है यह आग है
यह खुद लिखी किताब है
प्यार की खुराक सी है पिकू

मोड़ ले राहो के चहरे
इस को जाना होता जिस और है
ऐसे सरगम सुनाये
खुद इस के सुर है इस के राग है
रूठे रूठे तो मीचि जैसी
हास् दे तो चीनी जैसी
कैसी पहेली इसका हल न मिले

सुबह की धुप पे इसी के दस्तखत है
इसी की रौशनी उडी जी हर तरफ है
यह लम्हो केर कुवे में रोज़ झांकती है
यह जाके वक़्त से हिसाब मांगती है
यह पानी है यह आग है
यह खुद लिखी किताब है
प्यार की खुराक सी है पिकू.

Leave A Reply

Your email address will not be published.