Take a fresh look at your lifestyle.

Kya Chiz Hai Mohabbat | क्या चीज़ है मोहब्बत Song Lyrics in Hindi

0 63

Kya Chiz Hai Mohabbat Koi Mere Dil Se Puche, Song Lyrics from Movie Shair. This Song sung by Shamshad Begum, Mohammed Rafi, Lata Mangeshkar, Mukesh, Suraiya. Music given by Ghulam Mohd & Lyrics written by Shakeel Badayuni. Star cast of this movie are Dev Anand, Suraiya, Agha, Shyama, Murad, Dulari, Cuckoo, Kamini Kaushal, Sulochana

Movie Details

Movie: Shair

Singer/Singers: Shamshad Begum, Mohammed Rafi, Lata Mangeshkar, Mukesh, Suraiya

Music Director: Ghulam Mohd

Lyricist: Shakeel Badayuni

Actors/Actresses: Dev Anand, Suraiya, Agha, Shyama, Murad, Dulari, Cuckoo, Kamini Kaushal, Sulochana

Year/Decade: 1949

Music Label: Saregama Music

Song Lyrics in English Text

Kya Chiz Hai Mohabbat
Kya Chiz Hai Mohabbat Mohabbat
Koi Mere Dil Se Puche Mere Dil Se Puche
Kya Chiz Hai Mohabbat
Kya Chiz Hai Mohabbat Mohabbat
Koi Mere Dil Se Puche Mere Dil Se Puche
Kya Chiz Hai Mohabbat

Aaps Me Pahle Pahle Milti Hai Jab Nigahe
Milti Hai Jab Nigahe
Ban Ban Ke Jab Fasana Aati Hai Lab Pe Aahe
Aati Hai Lab Pe Aahe Aise Me Dil Ki Halat
Aise Me Dil Ki Halat
Koi Mere Dil Se Puche, Koi Mere Dil Se Puche
Kya Chiz Hai Mohabbat

Jab Zindagi Ki Rate Aati Hai Zindagi Me
Jab Apne Dil Se Bate Hoti Hai Chandani Me
Hoti Hai Chandani Me
Us Chandani Ki Kimat, Us Chandani Ki Kimat
Koi Mere Dil Se Puche, Koi Mere Dil Se Puche
Kya Chiz Hai Mohabbat

Jab Dil Ki Dhadkano Se Hote Hai Rag Paida
Dil Dil Se Milke Jis Dam Karta Hai Aag Paida
Karta Hai Aag Paida
Un Do Dilo Ki Kismat, Un Do Dilo Ki Kismat
Koi Mere Dil Se Puche, Koi Mere Dil Se Puche
Kya Chiz Hai Mohabbat
Kya Chiz Hai Mohabbat Mohabbat
Koi Mere Dil Se Puche Mere Dil Se Puche
Kya Chiz Hai Mohabbat

Song Lyrics in Hindi Text

क्या चीज़ है मोहब्बत
क्या चीज़ है मोहब्बत मोहब्बत
कोई मेरे दिल से पूछे
मेरे दिल से पूछे
क्या चीज़ है मोहब्बत
क्या चीज़ है मोहब्बत मोहब्बत
कोई मेरे दिल से पूछे
मेरे दिल से पूछे
क्या चीज़ है मोहब्बत

आपस में पहले पहले
मिलती है जब निगाहें
मिलती है जब निगाहें
बन बन के जब फ़साना
आती है लब पे आहे
आती है लब पे आहे
ऐसे में दिल की हालत
ऐसे में दिल की हालत
कोई मेरे दिल से पूछे
कोई मेरे दिल से पूछे
क्या चीज़ है मोहब्बत

जब ज़िन्दगी की रेट
आती है ज़िन्दगी में
जब अपने दिल से बातें
होती है चांदनी में
होती है चांदनी में
उस चांदनी की कीमत
कोई मेरे दिल से पूछे
कोई मेरे दिल से पूछे
क्या चीज़ है मोहब्बत

जब दिल की धड़कनों से
होते है रोग पैदा
दिल दिल से मिलके जिस दम
करता है आग पैदा
करता है आग पैदा
उन दो दिलो की किस्मत
कोई मेरे दिल से पूछे
कोई मेरे दिल से पूछे
क्या चीज़ है मोहब्बत
क्या चीज़ है मोहब्बत मोहब्बत
कोई मेरे दिल से पूछे
मेरे दिल से पूछे
क्या चीज़ है मोहब्बत.

Leave A Reply

Your email address will not be published.