Take a fresh look at your lifestyle.

Zindagi Zindagi Zindagi Kab Tum Ko Dekhaa Hai, Song Lyrics

0 135
Zindagi Zindagi Zindagi Kab
Zindagi Zindagi Zindagi Kab Song Lyrics

Zindagi Zindagi Zindagi Kab Tum Ko Dekhaa Hai, Song Lyrics from Movie Janam. This Song sung by . Music given by & Lyrics written by . Star cast of this movie are Kumar Gaurav, Shernaz Patel, Anupam Kher, Anita Kanwar, Deepak Qazir, Kittu GidwaniMusic Director: Ajit VermaFilm Director: Mahesh BhattExternal Links: Janam at IMDB Janam at WikipediaWatch Full Movie: Janam at YouTube

Movie Details

Movie: Janam

Singer/Singers:

Music Director:

Lyricist:

Actors/Actresses: Kumar Gaurav, Shernaz Patel, Anupam Kher, Anita Kanwar, Deepak Qazir, Kittu GidwaniMusic Director: Ajit VermaFilm Director: Mahesh BhattExternal Links: Janam at IMDB Janam at WikipediaWatch Full Movie: Janam at YouTube

Year/Decade: 1986

Music Label: Nilu Music

Song Lyrics in English Text

Zindagi, Zindagi, Zindagi
Zindagi, Zindagi, Zindagi
Kab Tum Ko Dekhaa Hai
Kab Tum Ko Jaana Hai Taaro Ke Sang
Phulo Ke Rag Me, Tum Ko Paanaa Hai
Ye Maine Thaanaa Hai, Apane Ghar Laanaa Hai
Ye Maine Thaanaa Hai
Zindagi, Zindagi, Zindagi
Kab Tum Ko Dekhaa Hai
Kab Tum Ko Jaana Hai Taaro Ke Sang
Phulo Ke Rag Me, Tum Ko Paanaa Hai
Ye Maine Thaanaa Hai, Apane Ghar Laanaa Hai
Ye Maine Thaanaa Hai
Tum Mere Sath Ho, Mai Tere Sath Hun
Vo Zamin Sath Hai, Aasamaan Sath Hai
Ye Bhigaa Bhigaa Jism, Ye Bhigi Aarazu
Zindagi Mil Gayi, Zindagi Hai Saudaagar
Deti Hai Kuchh Lene Ke Baad
Di Bahaar Mujh Ko Magar Phir
Li Chaman Rakhane Ke Baad
Sang Ke Sang, Lahu Ke Rag Me
Tum Ko Paanaa Hai, Tum Ko Paanaa Hai
Zindagi, Zindagi, Zindagi
Zindagi, Zindagi, Zindagi

Song Lyrics in Hindi Font/Text

ज़िन्दगी ज़िन्दगी ज़िन्दगी
ज़िन्दगी ज़िन्दगी ज़िन्दगी

कब तुम को देखा है
कब तुम को जाना हैं
तारो के सांग
फूलों के रंग में
तुम को पाना हैं
ये मैंने ठाना हैं
अपने घर लाना हैं
ये मैंने ठाना हैं
ज़िन्दगी ज़िन्दगी ज़िन्दगी

कब तुम को देखा हैं
कब तुम को जाना हैं
तारों के संग
फूलों के रंग में
तुम को पाना हैं
ये मैंने ठाना हैं
अपने घर लाना हैं
ये मैंने ठाना हैं

बेच डाला मेरे माली
मैं मुझे है रोके आज
खुश्क पत्ते की तरह मैं
हो लिया लहरों के साथ
रातों के संग
काँटों के रंग में
तुमको पाना हैं
तुमको पाना हैं
ज़िन्दगी ज़िन्दगी ज़िन्दगी
कब तुम को देखा है
कब तुम को जाना हैं
तारों के संग
फूलों के रंग में
तुम को पाना हैं
ये मैंने ठाना हैं
अपने घर लाना हैं
ये मैंने ठाना हैं

तुम मेरे साथ हो
मैं तेरे साथ हूँ
वो ज़मीं साथ हैं
असमा साथ हैं
ये भीगा भीगा जिस्म
ये भिगी आरज़ू
ज़िन्दगी मिल गयी
ज़िन्दगी हैं सौदागर
देती हैं कुछ लेने के बाद
दी बहार मुझ को मगर फिर
ली चमन रखने के बाद
साये के संग
लहू के रंग में
तुमको पाना हैं
तुमको पाना हैं
ज़िन्दगी ज़िन्दगी ज़िन्दगी
कब तुम को देखा हैं
कब तुम को जाना हैं
तारों के संग
फूलों के रंग में
तुम को पाना हैं
ये मैंने ठाना हैं
अपने घर लाना हैं
ये मैंने ठाना हैं.ा

Leave A Reply

Your email address will not be published.