Take a fresh look at your lifestyle.

Zaraa Si Baat Pyaar Ki Zubaan Se Nikal Gayi, Song Lyrics

0 79
Zaraa Si Baat Pyaar Ki
Zaraa Si Baat Pyaar Ki Song Lyrics

Zaraa Si Baat Pyaar Ki Zubaan Se Nikal Gayi, Song Lyrics from Movie Salaam Memsaheb. This Song sung by Asha Bhosle, Mohammed Rafi. Music given by Ravi & Lyrics written by Qamar Jalalabadi, Asad Bhopali, S H Bihari. Star cast of this movie are Subiraj, Kum Kum, Bhagwan, K N Singh, Achla Sachdev

Movie Details

Movie: Salaam Memsaheb

Singer/Singers: Asha Bhosle, Mohammed Rafi

Music Director: Ravi

Lyricist: Qamar Jalalabadi, Asad Bhopali, S H Bihari

Actors/Actresses: Subiraj, Kum Kum, Bhagwan, K N Singh, Achla Sachdev

Year/Decade: 1961

Music Label: Saregama Music

Song Lyrics in English Text

Zaraa Si Baat Pyaar Ki Zubaan Se Nikal Gayi
Huzur Kyaa Khataa Hui Nigaah Kyo Badal Gayi
Zaraa Si Baat Pyaar Ki Zubaan Se Nikal Gayi
Huzur Kyaa Khataa Hui Nigaah Kyo Badal Gayi

Jara Idhar To Dekhiye Nigaahe To Milaaiye
Jara Idhar To Dekhiye Nigaahe To Milaaiye
Ye Narm Honth Is Tarah Naa Daanto Me Dabaaiye
Ye Honth Kya Dabe Yahaan T6o Jaan Hi Nikal Gayi
Huzur Kyaa Khataa Hui Nigaah Kyo Badal Gayi
Huzur Kyaa Khataa Hui Nigaah Kyo Badal Gayi
Zaraa Si Baat Pyaar Ki Zubaan Se Nikal Gayi
Huzur Kyaa Khataa Hui Nigaah Kyo Badal Gayi
Huzur Kyaa Khataa Hui Nigaah Kyo Badal Gayi

Humaare Pyar Ka Jawaab Gairo Ko Naa Dijiye
Humaare Pyar Ka Jawaab Gairo Ko Naa Dijiye
Jara Sambhal Ke Baithiye Paseena Ponchh Lijiye
Ye Aap Kya Chale Yahaan Chhuri Si Dil Pe Chal Gayi
Huzur Kyaa Khataa Hui Nigaah Kyo Badal Gayi
Huzur Kyaa Khataa Hui Nigaah Kyo Badal Gayi
Zaraa Si Baat Pyaar Ki Zubaan Se Nikal Gayi
Huzur Kyaa Khataa Hui Nigaah Kyo Badal Gayi
Huzur Kyaa Khataa Hui Nigaah Kyo Badal Gayi

Zaraa Sharif Ladakiyo Se Baat Karanaa Sikhiye
Zaraa Sharif Ladakiyo Se Baat Karanaa Sikhiye
Phir Usake Baad Aayine Me Apani Shaql Dekhiye
Hamaare Mahamaan The To Baat Aake Tal Gayi
Nahi To Log Puchhate Ke Shaql Kyo Baadal Gayi
Huzur Kyaa Khataa Hui Nigaah Kyo Badal Gayi

Song Lyrics in Hindi Text

ज़रा सी बात प्यार की
जुबां से निकल गयी
हुज़ूर क्या खता हुई
निगाह क्यों बदल गयी
ज़रा सी बात प्यार की
जुबां से निकल गयी
हुज़ूर क्या खता हुई
निगाह क्यों बदल गयी

ज़रा इधर तो देखिये
निगाह तो मिलाइये
ज़रा इधर तो देखिये
निगाह तो मिलाइये
की नरम होंठ इस तरह न
दांतों में दबाइये
ये गुस्सा देख कर यहाँ
तो जान ही निकल गयी
हुज़ूर क्या खता हुई
निगाह क्यों बदल गयी
हुज़ूर क्या खता हुई
निगाह क्यों बदल गयी
ज़रा सी बात प्यार की
जुबां से निकल गयी
हुज़ूर क्या खता हुई
निगाह क्यों बदल गयी
हुज़ूर क्या खता हुई
निगाह क्यों बदल गयी

ज़फाए छोड़ दी जिए
सितम से बाज़ आये
ज़फाए छोड़ दी जिए
सितम से बाज़ आये
हमारा दिल है आपका
हमें न आजमाइये
ये आप क्या चले यहाँ
छुरी सी दिल पे चल गई
हुज़ूर क्या खता हुई
निगाह क्यों बदल गयी
ज़रा सी बात प्यार की
जुबां से निकल गयी
हुज़ूर क्या खता हुई
निगाह क्यों बदल गयी
हुज़ूर क्या खता हुई
निगाह क्यों बदल गयी

ज़रा शरीफ लड़कियों
से बात करना सीखिए
ज़रा शरीफ लड़कियों
से बात करना सीखिए
फिर उसके बाद आईने
में अपनी शक्ल देखिये
हमारे मेहमान थे
तो बात ाके टल गयी
नहीं तो लोग पूछते के
शक़्ल क्यूँ बदल गयी
नहीं तो लोग पूछते के
शक़्ल क्यूँ बदल गयी
ज़रा सी बात प्यार की
जुबां से निकल गयी
हुज़ूर क्या खता हुई
निगाह क्यों बदल गयी
हुज़ूर क्या खता हुई
निगाह क्यों बदल गयी.

Leave A Reply

Your email address will not be published.