Take a fresh look at your lifestyle.

Woh Chaand Kahan Se Laogi वो चाँद कहाँ से लाओगी Song Lyrics

0 93
Woh Chaand Kahan Se Laogi Song Lyrics
Woh Chaand Kahan Se Laogi Song Lyrics

Woh Chaand Kahan Se Laogi Song Lyrics by Manoj Muntashir. This song is sung by Vishal Mishra and the song was released in the year 2020. Music was composed by Arif Khan and lyrics were penned by Vishal Mishra.

Movie Details

Singer/Singers: Vishal Mishra

Music Director: Arif Khan

Lyricist: Vishal Mishra

Year/Decade: 2020

Music Label: VYRL Originals

Song Lyrics in English Text

Dil toda toh kyun toda
Itna toh bata deti
Koyi bahaana kar leti
Koyi toh wajah deti

Dil toda toh kyun toda
Itna toh bata deti
Koyi bahaana kar leti
Koyi toh wajah deti

Jab yaad tumhein main aaunga
Raaton mein bahut ghabraogi

Kya cheez ganwaa di hai tumne
Yeh soch ke so na paogi
Kya cheej ganwaa di hai tumne
Yeh soch ke so na paogi

Jo chaand tumhara mera tha
Woh chaand kahan se laogi
Kya cheez ganwaa di hai tumne
Yeh soch ke so na paogi

Kya kya baatein karti thi
Baahon mein kho ke
Tum jo bichhde
Mar jaungi main ro ro ke

Auron se tum
Dohrati ho jab yeh baatein
Yaad aati hai
Kya mere sang gujri raatein

Dekhne wale tumhein toh
Honge lakho mein
Mere jaisa pyaar hoga
Kiski aankhon mein

Chahe jitni koshish karlo
Kisi aur ki ho na paogi

Kya cheez ganwas di hai tumne
Yeh soch ke so na paogi
Kya cheez ganwas di hai tumne
Yeh soch ke so naa paogi

Jo chaand tumhara mera tha
Wo chaand kahan se laogi
Kya cheez ganwaa di hai tumne
Yeh soch ke so na paogi

Aasmaan tera roshni ko taras jayega
Chaand yeh laut kar ab na aayega

Jo chaand tumhara mera tha
Woh chaand kahan se laogi
Kya cheez ganwaa di hai tumne
Yeh soch ke so na paogi

Barishon mein chhup ke
Jitna roya hun main
Tumko bhi utna kabhi rona padega
Sirf mera tootna kaafi nahi hai
Tumko bhi toh muntashir hona padega

Song Lyrics in Hindi Text

दिल तोड़ा तो क्यूँ तोड़ा
इतना तो बता देती
कोई बहाना कर लेती
कोई तो वजह देती

हम्म दिल तोड़ा तो क्यूँ तोड़ा
इतना तो बता देती
कोई बहाना कर लेती
कोई तो वजह देती

जब याद तुम्हें मैं आऊँगा
रातों में बहोत घबराओगी

क्या चीज़ गावा दी है तुमने
ये सोच के सो ना पाओगी
क्या चीज़ गावा दी है तुमने
ये सोच के सो ना पाओगी

जो चाँद तुम्हारा मेरा था
वो चाँद कहाँ से लाओगी
क्या चीज़ गावा दी है तुमने
यह सोच के सो ना पाओगी

क्या क्या बातें करती थी
बाहों में खो के
तुम जो बिछड़े
मर जाउंगी मैं रो रो के

औरों से तुम
दोहराती हो जब ये बातें
याद आती हैं
क्या मेरे संग गुज़री रातें

देखने वाले तुम्हें तो
होंगे लाख में
मेरे जैसा प्यार होगा
किसकी आँखों में

चाहे जितनी कोशिश करलो
किसी और की हो ना पाओगी

क्या चीज़ गावा दी है तुमने
ये सोच के सो ना पाओगी
क्या चीज़ गावा दी है तुमने
ये सोच के सो ना पाओगी

जो चाँद तुम्हारा मेरा था
वो चाँद कहाँ से लाओगी
क्या चीज़ गावा दी है तुमने
ये सोच के सो ना पाओगी

आसमां तेरा रोशनी को तरस जाएगा
चाँद ये लौट कर अब ना आएगा

जो चाँद तुम्हारा मेरा था
वो चाँद कहाँ से पाओगी
क्या चीज़ गावा दी है तुमने
यह सोच के सो ना पाओगी

“बारीशों में छुप के
जितना रोया हू मैं
तुमको भी उतना कभी रोना पड़ेगा
सिर्फ़ मेरा टूटना काफ़ी नही है
तुमको भी तो मुंतशीर होना पड़ेगा

Leave A Reply

Your email address will not be published.