Take a fresh look at your lifestyle.

Shuru Hota Hai Phir Baaton Song Lyrics

0 154
Shuru Hota Hai Phir Baaton
Shuru Hota Hai Phir Baaton Song Lyrics

Shuru Hota Hai Phir Baaton Ka Mausam Song Lyrics from Movie Sholay (1975). This Song is Sung by Anand Bakshi, Bhupinder, Kishore Kumar, Lata Mangeshkar, Manna Dey, R D Burman. Music Given by R D Burman, Basu Manohari, Maruti Rao & Lyrics written by Anand Bakshi. Star Cast are Amitabh Bachchan, Dharmendra, Hema Malini, Sanjeev Kumar, Amjad Khan, Jaya Bachchan, A K Hangal.

Movie Details

Movie: Sholay

Singer/Singers: Anand Bakshi, Bhupinder, Kishore Kumar, Lata Mangeshkar, Manna Dey, R D Burman

Music Director: R D Burman, Basu Manohari, Maruti Rao

Lyricist: Anand Bakshi

Actors/Actresses: Amitabh Bachchan, Dharmendra, Hema Malini, Sanjeev Kumar, Amjad Khan, Jaya Bachchan, A K Hangal

Year/Decade: 1975

Music Label: Saregama Music

Song Lyrics in English Text

Shuru Hotaa Hai Phir Baato Kaa Mausam
Shuru Hotaa Hai Phir Baato Kaa Mausam
Suhaani Chaandani Raato Kaa Mausam
Bujhaaen Kis Tarah Dil Ki Lagi Ko
Lagaaen Aag Ham Is Chaandani Ko
Ki Chaand Saa Koi Chehraa Na Pahalu Me Ho

Arz Kiyaa Hai
Haay, Ki Chaand Saa Koi Chehraa Na Pahalu Me Ho
To Chaandani Kaa Mazaa Nahi Aataa
Chaand Saa Koi Chehra Na Pahalu Me Ho
Chaand Saa Koi Chehra Na Pahalu Me Ho
To Chaandani Kaa Mazaa Nahi Aataa
Are, Jaam Pikar Sharaabi Na Gir Jaae To
Ho, Jaam Pikar Sharaabi Na Gir Jaae To
Jaam Pikar Sharaabi Na Gir Jaae To
Mayakashi Kaa Mazaaa Nahi Aataa
Chaand Saa Koi Chehraa Na Pahalu Me Ho
To Chaandani Kaa Mazaa Nahi Aataa
Jaam Pikar Sharaabi Na Gir Jaae To
Mayakashi Kaa Mazaaa Nahi Aataa
Chaand Saa Koi Chehra Na Pahalu Me Ho

Zindagi Hai Mukammal Adhuri Nahi
Zindagi Hai Mukammal Adhuri Nahi
Chaand Saa Koi Chehra Zaruri Nahi
Husn Saiyyaad Hai, Ishq Fariyaad Hai
Ye Jo Do Naam Hai, Dono Badanaam Hai
Tum To Naadaan Ho, Gam Ke Mehamaan Ho
Dil Zaraa Thaam Lo, Aql Se Kaam Lo
Agarach Roshani Hoti Hai Saahab Sab Karaaro Me
Zaraa Saa Farq Hotaa Hai Dilo Me Aur Dimaago Me
Ai Mere Dosto, Aql Se Kaam Lo
Baat Dil Ki Karo
Kyoki
Sher Dil Ko Na Tadapaake Rakh De Agar
To Shaayari Kaa Mazaa Nahi Aataa
Ki Chaand Saa Koi Chehra
Chaand Saa Koi Chehra Na Pahalu Me Ho
To Chaandani Kaa Mazaa Nahi Aataa
Jaam Pikar Sharaabi Na Gir Jaae To
Mayakashi Kaa Mazaaa Nahi Aataa
Chaand Saa Koi Chehra Na Pahalu Me Ho

Sharbati Aankh Ke Dushmano Se Bacho
Sharbati Aankh Ke Dushmano Se Bacho
Reshmi Zulf Ki Ulajhano Se Bacho
Vo Gali Chhod Do, Ye Bharam Tod Do
Yun Na Aahe Bharo, In Se Taubaa Karo
Ye Jo Diladaar Hai, Sab Sitamagar Hai
Dil Jo Dete Hain Ye, To Jaan Lete Hai Ye
Vafaa Ke Naam Ko Aashiq Kabhi Rusvaa Nahi Karate
Kataa Dete Hai Vo Gardan Magar Shikavaa Nahi Karate
Dil Machal Jaane Do, Tir Chal Jaane Do, Dam Nikal Jaane Do
Aur, Maut Se Aadami Ko Agar Dar Lage
Maut Se Aadami Ko Agar Dar Lage
To Zindagi Kaa Mazaa Aataa Nahi
Chaand Saa Koi Chehra Na Pahalu Me Ho
To Chaandani Kaa Mazaa Nahi Aataa
Jaam Pikar Sharaabi Na Gir Jaae To
Mayakashi Kaa Mazaaa Nahi Aataa
Chaand Saa Koi Chehra Na Pahalu Me Ho

Ishq Me Yaad Kuchh Aur Hotaa Nahi
Aashiqi Khub Ki, Dil Se Mahabub Ki
Yaad Jaati Nahi, Nid Aati Nahi
Dard Khilataa Nahi, Chain Milataa Nahi
Yaa Khudaa Kyaa Kare, Ham Davaa Kyaa Kare
Davaa Dard-e-jigar Ki Puchhate Ho Tum Divaane Se
Ye Dil Ki Aag Bujhegi Faqat Aansu Bahaane Se
Yah Sitam Kis Lie, Gam Ho Kam Kis Lie, Roe Ham Kis Lie
Aag Par Koi Paani Agar Daal De
Aag Par Koi Paani Agar Daal De
To Dillagi Kaa Mazaa Aataa Nahi
Aag Par Koi Paani Agar Daal De
To Dillagi Kaa Mazaa Aataa Nahi
Chaand Saa Koi Chaharaa Na Pahalu Me Ho
To Chaandani Kaa Mazaa Nahi Aataa
Jaam Pikar Sharaabi Na Gir Jaae To
Mayakashi Kaa Mazaaa Nahi Aataa
Chaand Saa Koi Chaharaa Na Pahalu Me Ho
To Chaandani Kaa Mazaa Nahi Aataa
Chaand Saa Koi Chaharaa Na Pahalu Me Ho

Song Lyrics in Hindi Font

शुरू होता है फ़िर बातों का मौसम
शुरू होता है फिर बातों का मौसम
सुहानी चाँदुनी रातों का मौसम
बुझाएँ किस तरह दिल की लगी को
लगाएँ आग हम इस चाँदनी को
कि चाँद सा कोई चहरा न पहलू में हो

अर्ज़ किया है
हाव, कि चाँद सा कोई चहरा न पहलू में हो
तो चाँदनी का मज़ा नहीं आता
चाँद सा कोई चहरा न पहलू में हो
चाँद सा कोई चहरा न पहलू में हो
तो चाँदनी का मज़ा नहीं आता
अरे, जाम पीकर शराबी न गिर जाए तो
हो जाम पीकर शराबी न गिर जाए तो
जाम पीकर शराबी न गिर जाए तो
मयकशी का मज़ा नहीं आता
चाँद स्रा कोई चहरा न पहलू में हो
तो चाँदनी का मज़ा नहीं आता
जाम पीकर शराबी न गिर जाए तो
मयकशी का मज़ा नहीं आता
चाँद स्रा कोई चहरा न पहलू में हो

जिंदगी है मुकणल अधूरी रहीं

ज़िंदगी है मुकम्मल अधूरी नहीं

चाँद सा कोई चहरा ज़रूरी नहीं

हुआ सैव्याद है, इश्क़ फ़रियाद है

बे जो दो नाम हैं, दोनों बदनाम हैं
तुम तो नादान हो, ग़म के मेहमान हो
दिल ज़रा धाम लो, अक़्ल से काम लो

अगरच रोशनी होती है साहब सब करारों में
ज़रा सा फ़र्क़ होता है दिलों में और दिमाग में
ऐ मेरे दोस्तों, अक़ल से काम लो
बात दिल की करो
क्योंकि

शेर दिल को न तड़पाके रख दे अगर

तो शावरी का मज़ा नहीं आता

की चाँद सा कोई चहरा

चाँद सा कोई चहरा न पहलू में हो

तो चाँदनी का मज़ा नहीं आता
जाम पीकर शराबी न गिर जाए तो

मयकशी का मज़ा नहीं आता
चाँद सा कोई चहरा न पहलू में हो

शर्वती आँल के दुस्‍मनों से वचो
शर्बती आँल के दुस्मनों से बचो
रेशमी जुल्फ की उलझनों से बचो
वो गली छोड़ दो, वे भरम तोड़ वो
यूँ न आहें भरो, इन से तौवा करो
वे जो विलदार हैं, सब सितमगर हैं
दिल जो वेते हैँ ये, तो जान लेते हैं ये
वफ़ा के नाम को आशिक़ कभी रुस्वा नहीं करते
कटा वेते हैं वो गर्दन मगर शिकवा नहीं करते
दिल मचल जाने दो, तीर चल जाने दो, दम निकल जाने दो
और, मौत से आदमी को अगर डर लगे
मौत से आदमी को अगर डर लगे
तो ज़िंदगी का मज़ा आता नहीं
चाँद सा कोई चहरा न पहलू में हो
तो चाँदनी का मज़ा नहीं आता
जाम पीकर शराबी न शिर जाए तो.
मयकशी का मज़ा नहीं आता
चाँद सा कोई चहरा न पहलू में हो

इश्क़ में याद कुछ और होता नहीं
आशिक्ी खूब की, दिल से महबृब की
याद जाती नहीं, नींद आती नहीं
दर्द बिलता नहीं, चैन मिलता नहीं
या छुद़ा क्या करें, हम दवा क्या करें
दवा दर्द-ए-जिगर की पूछते हो तुम दीवाने से
ये दिल की आग वुझेगी फ़क़त आँसू बहाने से
यह पितम किस लिए, गरम हो कम किस लिए, रोएं हम किस लिए
आग पर कोई पानी अगर ढाल दे
आग पर कोई पानी अगर ढाल दे
तो दिल्‍्लगी का मज़ा आता नहीं
आग पर कोई पानी अगर ढाल दे
तो दिल्‍लगी का मज़ा आता नहीं.
चाँद सा कोई चहरा न पहलू में हो
तो चाँदनी का मज़ा नहीं आता
जाम पीकर शराबी न गिर जाए तो
मयकशी का मज़ा नहीं आता
चाँद सा कोई चहरा न पहलू में हो
तो चाँदनी का मज़ा नहीं आता
चाँद स्रा कोई चहरा न पहलू में हो

Note: For any mistake in Lyrics kindly let us know !!

Leave A Reply

Your email address will not be published.