Take a fresh look at your lifestyle.

Roz Roz Aankhon Tale Lyrics

0 655

roz roz aankhon tale lyrics

A very melodious song from movie Jeeva released in the year 1986 starring Sanjay Dutt, Mandakini. Music composed by R D Burman and lyrics penned by Gulzar.

Movie Details

Movie: Jeeva

Singer/Singers: Amit Kumar, Asha Bhosle

Music Director: R D Burman

Lyricist: Gulzar

Actors/Actresses: Sanjay Dutt, Mandakini

Year/Decade: 1986

Music Label: Shemaroo Music

Song Lyrics in English Text

Roz Roz Aankho Tale
Roz Roz Aankho Tale
Roz Roz Aankho Tale Ek Hi Sapanaa Chale
Raat Bhar Kaajal Jale, Aankh Me Jis Tarah
Khvaab Kaa Diyaa Jale
Ho Roz Roz Aankho Tale
Roz Roz Aankho Tale Ek Hi Sapanaa Chale
Raat Bhar Kaajal Jale, Aankh Me Jis Tarah
Khvaab Kaa Diyaa Jale
Ho Roz Roz Aankho Tale

Jabase Tumhaari Naam Ki Misari Hoth Se Lagaayi Hai
Mithaa Saa Gam Hai, Aur Mithi Si Tanhaayi Hai
Jabase Tumhaari Naam Ki Misari Hoth Se Lagaayi Hai
Mithaa Saa Gam Hai, Aur Mithi Si Tanhaayi Hai
Roz Roz Aankho Tale Ek Hi Sapanaa Chale
Raat Bhar Kaajal Jale, Aankh Me Jis Tarah
Khvaab Kaa Diyaa Jale
Ho Roz Roz Aankho Tale

Chhoti Si Dil Ki Ulajhan Hai Ye Sulajhaa Do Tum
Jinaa To Sikhaa Hai Marake, Maranaa Sikhaa Do Tum
Chhoti Si Dil Ki Ulajhan Hai Ye Sulajhaa Do Tum
Jinaa To Sikhaa Hai Marake, Maranaa Sikhaa Do Tum
Roz Roz Aankho Tale
Roz Roz Aankho Tale
Roz Roz Aankho Tale Ek Hi Sapanaa Chale
Raat Bhar Kaajal Jale, Aankh Me Jis Tarah
Khvaab Kaa Diyaa Jale
Ho Roz Roz Aankho Tale

Aankho Par Kuchh Aise Tumane Zulf Giraa Di Hai
Bechaare Se Kuchh Khvaabon Ki Nid Udaa Di Hai
Aankho Par Kuchh Aise Tumane Zulf Giraa Di Hai
Bechaare Se Kuchh Khvaabon Ki Nid Udaa Di Hai
Roz Roz Aankho Tale Ek Hi Sapanaa Chale
Raat Bhar Kaajal Jale, Aankh Me Jis Tarah
Khvaab Kaa Diyaa Jale
Ho Roz Roz Aankho Tale Ek Hi Sapanaa Chale
Raat Bhar Kaajal Jale, Aankh Me Jis Tarah
Khvaab Kaa Diyaa Jale

Song Lyrics in Hindi Font/Text

रोज़ रोज़ आँखों तले
रोज़ रोज़ आँखों तले
रोज़ रोज़ आँखों तले
एक ही सपना चले
रात भर काजल जले
आँख में जिस तरह
ख्वाब का दीया जले
रोज़ रोज़ आँखों तले
एक ही सपना चले
रात भर काजल जले
आँख में जिस तरह
ख्वाब का दीया जले
रोज़ रोज़ आँखों तले

जबसे तुम्हारी नाम की
मिसरि होठ से लगायी हैं
मीठा सा ग़म हैं और
मीठी सी तन्हाई हैं
जबसे तुम्हारी नाम की
मिसरि होठ से लगायी हैं
मीठा सा ग़म हैं
और मीठी सी तन्हाई हैं

रोज़ रोज़ आँखों तले
एक ही सपना चले
रात भर काजल जले
आँख में जिस तरह
ख्वाब का दीया जले
रोज़ रोज़ आँखों तले

छोटी सी दिल की उलझन हैं
ये सुलझा दो तुम
जीना तो सीखा है मरके
मरना सिखा दो तुम
छोटी सी दिल की उलझन हैं
ये सुलझा दो तुम
जीना तो सीखा है मरके
मरना सिखा दो तुम

रोज़ रोज़ आँखों तले
एक ही सपना चले
रात भर काजल जले
आँख में जिस तरह
ख्वाब का दीया जले
रोज़ रोज़ आँखों तले

आँखों पर कुछ ऐसे
तुमने ज़ुल्फ़ गिरा दी हैं
बेचारे से कुछ
ख़्वाबों की नींद उड़ा दी हैं
आँखों पर कुछ ऐस
तुमने ज़ुल्फ़ गिरा दी हैं
बेचारे से कुछ
ख़्वाबों की नींद उड़ा दी हैं

रोज़ रोज़ आँखों तले
एक ही सपना चले
रात भर काजल जले
आँख में जिस तरह
ख्वाब का दीया जले
रोज़ रोज़ आँखों तले

Leave A Reply

Your email address will not be published.