Take a fresh look at your lifestyle.

Rona Chahe Rona Paye Lyrics In Hindi

0 889

rona chahe lyrics

Sad song from the movie Anari released in 1993. Superb music by Anand Milind & melodious lyrics by Sameer. Very well sung by Udit Narayan

Movie Details

Movie: Anari

Singer/Singers: Udit Narayan

Music Director: Anand Milind

Lyricist: Sameer

Actors/Actresses: Venkatesh

Year/Decade: 1993

Music Label: Tips Audio

Song Lyrics in English Text

Panchhi Kaa Par Katarke Kehte Hai Udake Dikhao
Juba Katke Duniya Wale Kehte Hai Tum Gao

Rona Chahe Ro Na Paye, Dil Kitna Majbur Hai
Rona Chahe Ro Na Paye, Dil Kitna Majbur Hai
Kise Pata Hai Ko Bataye Rab Ko Kya Manjur Hai
Rona Chahe Ro Na Paye, Dil Kitna Majbur Hai
Rona Chahe Ro Na Paye, Dil Kitna Majbur Hai
Kise Pata Hai Ko Bataye Rab Ko Kya Manjur Hai
Rona Chahe Ro Na Paye

Leke Aa Aanchal Ke Tale Mujhko Waradan Diya
Maine Toh Sikha Wahi Maa Ne Jo Gyan Diya
Dard Jo De Kisiko Mai O Insan Nahee
Khamiya Mujhame Bhi Hai Par Mai Beiman Nahee
Maine Sabko Apna Mana
Mera Yeh Kasur Hai, Mera Yeh Kasur Hai
Rona Chahe Ro Na Paye Dil Kitna Majbur Hai
Kise Pata Hai Ko Bataye Rab Ko Kya Manjur Hai
Rona Chahe Ro Na Paye

Bhola Tha, Nadan Bhi Tha, Kuch Bhi Naa Jan Saka
Dhaga Rasmo Kaa Kya Hai Mai Naa Pehchan Saka
Maine Aparadh Kiya Mujhko Inkar Nahi
Bhul Anjane Huye Mai Gunhegar Nahi
Ab Yeh Jake Maine Jana
Hota Kya Sindur Hai, Hota Kya Sindur Hai
Rona Chahe Rona Paye Dil Kitna Majbur Hai
Kise Pata Hai Ko Bataye Rab Ko Kya Manjur Hai
Rona Chahe Rona Paye Dil Kitna Majbur Hai
Kise Pata Hai Ko Bataye Rab Ko Kya Manjur Hai
Rona Chahe Ro Na Paye

Song Lyrics in Hindi Font/Text

पंछी का पर कतरके कहते है उड़के दिखाओ
जुबा काटके दुनिया वाले केहते है तुम गाओ

रोना चाहे रो ना पाए, दिल कितना मजबूर है
रोना चाहे रो ना पाए, दिल कितना मजबूर है

किसे पता है कोन बताये रब को क्या मंजूर है
रोना चाहे रो ना पाए, दिल कितना मजबूर है

रोना चाहे रो ना पाए, दिल कितना मजबूर है

किसे पता है कोन बताये रब को क्या मंजूर है
रोना चाहे रो ना पाए

लेके आंचल के तले मुझको वरदान दिया
मैंने तो सिखा वही माँ ने जो ज्ञान दिया
दर्द जो दे किसी को मैं ओ इन्सान नहीं
खामिया मुझमे भी है पर मैं बेईमान नहीं
मैंने सबको अपना माना
मेरा ये कसूर है, मेरा ये कसूर है
रोना चाहे रो ना पाए, दिल कितना मजबूर है
कैसे पता है को बताये रब को क्या मंजूर है
रोना चाहे रो ना पाए

भोला था, नादान भी था, कुछ भी ना जान सका

धागा रस्मो का क्‍या है मैं ना पहचान सका

मैंने अपराध किया मुझको इंकार नहीं

भूल अनजाने हुए मैं गुन्हेगार नहीं
अब ये जाके मैंने जाना

होता क्या सिंदूर है, होता क्या सिंदूर है
रोना चाहे रो ना पाए, दिल कितना मजबूर है
कैसे पता है को बताये रब को क्या मंजूर है
रोना चाहे रो ना पाए, दिल कितना मजबूर है
कैसे पता है को बताये रब को क्या मंजूर है

रोना चाहे रो ना पाए

Leave A Reply

Your email address will not be published.