Take a fresh look at your lifestyle.

Raaste Chup Chup Roshni Maddham Lyrics

0 254

Raaste Chup Chup Roshni Maddham Lyrics

Romantic song from the album Aafreen starring Pankaj Udhas. The album was released in the year 1986. Music was composed by Pankaj Udhas and lyrics were penned by Zafar Gorakhpuri.

Movie Details

Movie: Aafreen

Singer/Singers: Pankaj Udhas

Music Director: Pankaj Udhas

Lyricist: Zafar Gorakhpuri

Actors/Actresses: Pankaj Udhas

Year/Decade: 1986

Music Label: UMG

Song Lyrics in English Text

Raaste Chup Chup Roshni Maddham
Raaste Chup Chup Roshni Maddham
Mere Makan Se Uski Gali Tak
Tanhaai Ka Ek Sa Aalam
Mere Makan Se Uski Gali Tak
Raaste Chup Chup Roshni Maddham

Guzre Hain Is Simt Se Shayad
Kaafil Yaado Ki Pariya Khel
Charo Taraf Paajeb Ki Cham Cham
Mere Makan Se Uski Gali Tak
Tanhaai Ka Ek Sa Aalam
Mere Makan Se Uski Gali Tak
Raaste Chup Chup Roshni Maddham

Saye Ka Diwaar Se Milna
Dil Se Milna Yaado Ka
Saye Ka Diwaar Se Milna
Dil Se Milna Yaado Ka
Kaise Kaise Dikash Sangam
Mere Makan Se Uski Gali Tak
Tanhaai Ka Ek Sa Aalam
Mere Makan Se Uski Gali Tak
Raaste Chup Chup Roshni Maddham

Zakhm Idhar Mahke Hain Dil Ke
Usne Udhar Kholi Hai Zulfein
Zakhm Idhar Mahke Hain Dil Ke
Usne Udhar Kholi Hai Zulfein
Thahra Hai Khusbu Ka Mausam
Mere Makan Se Uski Gali Tak
Tanhaai Ka Ek Sa Aalam
Mere Makan Se Uski Gali Tak
Raaste Chup Chup Roshni Maddham
Raaste Chup Chup Roshni Maddham
Raaste Chup Chup Roshni Maddham

Song Lyrics in Hindi Font/Text

रास्ते चुप चुप रोशनी मद्वम
रास्ते चुप चुप रोशनी मद्वम
मेरे मकान से उसकी गली तक
तनहाई का एक सा आलम
मेरे मकान से उसकी गली तक
रास्ते चुप चुप रोशनी मद्वम

गुज़रे हैं इस छिम्त से शावद
काफ़िल यादों की परियों खेल
चारों तरफ पाजेब की छम छम
मेरे मकान से उसकी गली तक
तनहाई का एक सा आलम
मेरे मकान से उसकी गली तक
रास्ते चुप चुप रोशनी मद्वम

साये का दीवार से मिलना
दिल से मिलना यादों का
साये का दीवार से मिलना
दिल से मिलना यादों का
कैसे कैसे विलकश संगम
मेरे मकान से उसकी गली तक
तनहाई का एक सा आलम
मेरे मकान से उसकी गली तक
रास्ते चुप चुप रोशनी मद्वम

ज़र्म इधर महके हैं दिल के
उसने उधर खोली है जुल्फें
ज़र्म इधर महके हैं दिल के
उसने उधर खोली है जुल्फें
ठहर है खुशबू का मौसम
मेरे मकान से उसकी गली तक
तनहाई का एक सा आलम
मेरे मकान से उसकी गली तक
रास्ते चुप चुप रोशनी मद्वम
रास्ते चुप चुप रोशनी मद्वम
रास्ते चुप चुप रोशनी मद्वम

Leave A Reply

Your email address will not be published.