Take a fresh look at your lifestyle.

Pyar Ke Kagaz Pe lyrics

0 673

प्यार के कागज़ पे

A melodious song from the movie Jigar starring Ajay Devgan and Karishma Kapoor and song beautifully by Abhijeet and Sadhana Sargam. Music composed by Anand Milind and lyrics by Sameer.

Movie Details

Movie: Jigar

Singer/Singers: Abhijeet and Sadhana Sargam

Music Director: Anand Milind

Lyricist: Sameer

Actors/Actresses: Ajay Devgan and Karishma Kapoor

Year/Decade: 1992

Music Label: Nirvana Music

Song Lyrics in English Text

Pyar Ke Kagaz Pe, Dil Ki Kalam Se
Pyar Ke Kagaz Pe, Dil Ki Kalam Se
Pehli Baar Salam Likha, Pehli Baar Salam Likha
Maine Khat Mehbub, Ke Naam Likha
Maine Khat Mehbub, Ke Naam Likha

Pyar Ke Kagaz Pe, Dil Ki Kalam Se
Pyar Ke Kagaz Pe, Dil Ki Kalam Se
Pehli Baar Salam Likha, Pehli Baar Salam Likha
Maine Khat Mehbub, Ke Naam Likha
Maine Khat Mehbub, Ke Naam Likha

Yaado Me Din Katati Thi, Aur Na Gujarti Thi Raate
Kaise Bhala Main Batau, Tujhko Judai Ki Baate
Rang Layi Bekrari, Aisi Chhayi Thi Khumari
Maine Subah Ko Sham Likhha, Maine Subah Ko Sham Likhha
Maine Khat Mehbub, Ke Naam Likha
Maine Khat Mehbub, Ke Naam Likha

Tere Gulabi Labo Se, Shabnam Ke Daane Churau
Tere Gulabi Labo Se, Shabnam Ke Daane Churau
Jo Baat Khatme Likhi Na, Aaja Tujhe Main Batau
Yu Hi Aahe Bharte Bharte, Tauba Maine Darte Darte
Ulfat Ka Payam Likha, Ulfat Ka Payam Likha
Maine Khat Mehbub, Ke Naam Likha
Maine Khat Mehbub, Ke Naam Likha

Achchha Nahi Yu Tadapna, Aise Mitegi Na Duri
Achchha Nahi Yu Tadapna, Aise Mitegi Na Duri
Shehnayi Jis Din Bajegi, Har Aarju Hogi Puri
Pyas Apni Kab Bujhegi, Jane Doli Kab Sajegi
Rab Ne Kya Anjam Likha, Rab Ne Kya Anjam Likha
Maine Khat Mehbub, Ke Naam Likha
Maine Khat Mehbub, Ke Naam Likha

Pyar Ke Kagaz Pe, Dil Ki Kalam Se
Pyar Ke Kagaz Pe, Dil Ki Kalam Se
Pehli Baar Salam Likha, Pehli Baar Salam Likha
Maine Khat Mehbub, Ke Naam Likha
Maine Khat Mehbub, Ke Naam Likha
Maine Khat Mehbub, Ke Naam Likha
Maine Khat Mehbub, Ke Naam Likha

Song Lyrics in Hindi Font/Text

प्यार के कागज़ पे दिल की कलम से
प्यार के कागज़ पे दिल की कलम से
पहली बार सलाम लिखः
पहली बार सलाम लिखः
मैंने खत मेहबूब के नाम लिखा
मैंने खत मेहबूब के नाम लिखा
प्यार के कागज़ पे दिल की कलम से
प्यार के कागज़ पे दिल की कलम से
पहली बार सलाम लिखः
पहली बार सलाम लिखः
मैंने खत मेहबूब के नाम लिखा
मैंने खत मेहबूब के नाम लिखा

यादों में दिन काटती थी
और न गुजराती थी रातें
यादों में दिन काटती थी
और न गुजराती थी रातें
कैसे भला मैं बतायु
तुझको जुदाई की बातें
रंग लायी बेक़रारी
ऐसी छायी थी खुमारी
मैंने सुबह को शाम लिखः
मैंने सुबह को शाम लिखः
मैंने खत मेहबूब के नाम लिखा
मैंने खत मेहबूब के नाम लिखा

तेरे गुलाबी लबों से
शबनम के दाने चुराओ
तेरे गुलाबी लबों से
शबनम के दाने चुराओ
जो बात खातमें लिखि न
आजा तुझे मैं बताऊँ
यु ही आहे भरते भरते
तौबा मैंने डरते डरते
उल्फत का पयाम लिखा
उल्फत का पयाम लिखा
मैंने खत मेहबूब के नाम लिखा
मैंने खत मेहबूब के नाम लिखा

अच्छा नहीं यूँ तडपना
ऐसे मिटेंगी न दूरि
अच्छा नहीं यूँ तडपना
ऐसे मिटेंगी न दूरि
शेहनाई जिस दिन बजेगी
हर आरजू होगी पूरी
प्यास अपनी कब भुजेगी
जाने डोली कब सजेगी
रब ने क्या अन्जाम लिखा
रब ने क्या अन्जाम लिखा
मैंने खत मेहबूब के नाम लिखा
मैंने खत मेहबूब के नाम लिखा
प्यार के कागज़ पे दिल की कलम से
प्यार के कागज़ पे दिल की कलम से
पहली बार सलाम लिखः
पहली बार सलाम लिखः
मैंने खत मेहबूब के नाम लिखा
मैंने खत मेहबूब के नाम लिखा
मैंने खत मेहबूब के नाम लिखा
मैंने खत मेहबूब के नाम लिखा

Leave A Reply

Your email address will not be published.