Take a fresh look at your lifestyle.

PARWAH NAHIN परवाह नहीं Song Lyrics

0 154
PARWAH NAHIN Song Lyrics
PARWAH NAHIN Song Lyrics

Parwah Nahin Lyrics, from the movie M.S. Dhoni: The Untold Story. This song is sung by Siddharth Basrur and the movie was released in the year 2016. Music was composed by Amaal Mallik and lyrics were penned by Manoj Muntashir.

Movie Details

Movie: M.S. Dhoni: The Untold Story 

Singer/Singers: Siddharth Basrur

Music Director: Amaal Mallik

Lyricist: Manoj Muntashir

Year/Decade: 2016

Music Label: T-Series

Song Lyrics in English Text

Patthar ke hain sab raaste
Parwah nahin..
Dhundhle hain chehre khwaab ke
Parwah nahin..

Chhalni hai seena rehne do
Ab jo bhi ho parwah nahin..

Sanki hua jaata hai dil
Mann ki kiye jaata hai dil
Kadke betahasha ye
Bijli hua jaata hai dil (x2)

Baadal mein dhoondhe hausle
Pagla gaye hain hausle
Gir jaaye ya udey
Ab toote ya jude, parwah nahin..
Parwah nahin.. hey.. yeah..
Parwah nahin.. yeah..
Parwah nahin.. yeah…

Jhoothe hain ya sachche hain
Sapne aakhir sapne hain
Saare taare tumhi rakh lo
Saare jugnu toh mere hain (x2)

Roke ruke na dil jale
Pagla gaye hain hausle
Ziddi hain dhadkane
Ab bigde ya bane, parwah nahin..
Wo.. parwah nahin..
Ho.. parwah nahin..
Yeah.. parwah nahin.. yeah…

Saanson mein jo bhatti hai
Woh raat aur din dehakti hai
Paani-waani toh dhoka hai
Yeh aag aag se bujhti hai (x2)

Aaye toh aaye zalzale
Pagla gaye hain hausle
Sholon pe hum chale
Ab pighle ya jale, parwah nahin!
Wo.. parwah nahin..
Wo.. parwah nahin..
Wo.. parwah nahin..
Wo.. parwah nahin.. o..

Song Lyrics in Hindi Text

पत्थर के हैं सब रास्ते
परवाह नहीं
धुंधले हैं चेहरे ख्वाब के
परवाह नहीं

छलनी है सीना रहने दो
अब जो भी परवाह नहीं

सनकी हुआ जाता है दिल
मन की किया जाता है दिल
कड़के बेरहाषा ये
बिजली हुआ जाता है दिल

सनकी हुआ जाता है दिल
मन की किया जाता है दिल
कड़के बेरहाषा ये
बिजली हुआ जाता है दिल

बादल में ढूंढें होंसले
पागला गए हैं होंसले
गिर जाये या उड़े
अब टूटे या जुड़े, परवाह नहीं
परवाह नहीं हे..
परवाह नहीं हे..
परवाह नहीं हे..

झूटे हैं या सच्चे हैं
सपने आखिर सपने हैं
सारे तारे तुम्हीं रख लो
सारे जुगनू तो मेरे हैं
झूटे हैं या सच्चे हैं
सपने आखिर सपने हैं
सारे तारे तुम्हीं रख लो
सारे जुगनू तो मेरे हैं

टोके रुके ना दिल जले
पगला गए हैं हौंसले
जिद्दी हैं धड़कने
बिगड़े या बने परवाह नहीं
वो परवाह नहीं
हो परवाह नहीं
येह परवाह नहीं ये

साँसों में जो भट्टी है
वो रात और दिन दहकती है
पानी-वानी तो धोका है
ये आग आग से बुझती है
साँसों में जो भट्टी है
वो रात और दिन दहकती है
पानी-वानी तो धोका है
ये आग आग से बुझती है

आयें तो आये जलजले
पगला गए हैं होंसले
शोलों पे हम चले
अब पिघले या जले परवाह नहीं
वो परवाह नहीं.. वो परवाह नहीं..
वो परवाह नहीं.. वो परवाह नहीं..

Leave A Reply

Your email address will not be published.