Take a fresh look at your lifestyle.

Parinda परिंदा Song Lyrics in Hindi

0 103

Parinda Lyrics is a hindi song from the movie Saina. This song is sung by Amaal Mallik. This movie was released in the year 2021. Music of this movie was composed by Amaal Mallik and lyrics were written by Manoj Muntashir. This song is publised under the label of T-Series. The Song Parinda Lyrics is released in the year 2021.

Movie Details

Movie: Saina

Singer/Singers: Amaal Mallik

Music Director: Amaal Mallik

Lyricist: Manoj Muntashir

Year/Decade: 2021

Music Label: T-Series

Song Lyrics in English Text

Jalna bhujna, bhujke jalna
Marna jeena, marke jeena
Mangne wali cheez nahi yeh
Mauka uska jisne chheena

Girna uthna, uthke chalna
Chad ja ambar jeena jeena
Yaad rahe yeh shart safar ki
Pichhe mud ke dekh kabhi na

Jeet ka junoon hai toh
Haar sochna kyun
Jab zindagi hai ek hi
Do baar sochna kyun

Main parinda kyun banun
Mujhe aasmaan ban’na hai
Main ik panna kyun rahun
Mujhe dastaan ban’na hai
Main parinda kyun banun
Mujhe aasmaan ban’na hai

Koyi toh wajah hai
Jo zid pe adi hai yeh dhadkane
Yahin toh wajah hai
Kiya jo kisi ne nahi hum kare

Talwaar haath hai mein tere
De maar sochna kyun
Jab zindagi hai ek hi
Do baar sochna kyun

Main parinda kyun banun
Mujhe aasmaan ban’na hai
Main ik panna kyun rahun
Mujhe dastaan ban’na hai

Song Lyrics in Hindi Text

जलना बुझना बुझके जलना
मरना जीना मरके जीना
मांगने वाली चीज़ नही ये
मौका उसका जिसने छीना

गिरना उठना उठके चलना
चढ़ जा अम्बर ज़ीना ज़ीना
याद रहे ये शर्त सफ़र कि
पीछे मुड़के देख कभी ना

जीत का जुनूँ है तो
हार सोचना क्यूँ
जब ज़िंदगी है एक ही
दो बार सोचना क्यूँ

मैं परिंदा क्यूँ बनूँ
मुझे आसमाँ बनना है
मैं एक पन्ना क्यूँ रहूँ
मुझे दास्ताँ बनना है
मैं परिंदा क्यूँ बनूँ
मुझे आसमाँ बनना है

कोई तो वजह है
जो ज़िद्द पे अड़ी है
ये धड़कने
यही तो मज़ा है
किया जो किसी ने नही हम करें

कोई तो वजह है
जो ज़िद्द पे अड़ी है
ये धड़कने
हाँ यही तो मज़ा है
किया जो किसी ने नही हम करें

ललकार की घड़ी है ये
बेकार सोंचना क्यूँ
जब ज़िंदगी है एक ही
दो बार सोचना क्यूँ

मैं परिंदा क्यूँ बनूँ
मुझे आसमाँ बनना है
मैं एक पन्ना क्यूँ रहूँ
मुझे दास्ताँ बनना है
मैं परिंदा क्यूँ बनूँ
मुझे आसमाँ बनना है

सूरज आँख दिखा ले आज
कल तेरी आँख झुकनी है
तेरे अन्दर है जीतनी आग
यहाँ उससे भी दुगुनी है

सूरज आँख दिखा ले आज
कल तेरी आँख झुकनी है
तेरे अन्दर है जीतनी आग
यहाँ उससे भी दुगुनी है

तलवार हाथ में है तेरे
दे मार सोचना क्यूँ
जब ज़िंदगी है एक ही
दो बार सोचना क्यूँ

मैं परिंदा क्यूँ बनूँ
मुझे आसमाँ बनना है
मैं एक पन्ना क्यूँ रहूँ
मुझे दास्ताँ बनना है
मैं परिंदा क्यूँ बनूँ
मुझे आसमाँ बनना है

Leave A Reply

Your email address will not be published.