Take a fresh look at your lifestyle.

Parbaton Ke Pedon Par Lyrics

0 808

parvato k paidon per

This beautiful romantic song is sung by Mohammed Rafi & Suman Kalyanpur and is from the movie Shagoon released in the year 1964. Music composed by Khayyam and lyrics penned by Sahir Ludhianvi.

Movie Details

Movie: Shagoon

Singer/Singers: Mohammed Rafi & Suman Kalyanpur

Music Director: Khayyam

Lyricist: Sahir Ludhianvi

Actors/Actresses: Waheeda Rehman, Kamaljeet

Year/Decade: 1964

Music Label: Shemaroo Music

Song Lyrics in English Text

Parbato Ke Pedo Par Shaam Ka Basera Hai
Parbato Ke Pedo Par Shaam Ka Basera Hai
Surmayi Ujaala Hai, Champayi Adhera Hai
Surmayi Ujaala Hai

Dono Vaqt Milate Hai Do Dilo Ki Surat Se
Dono Vaqt Milate Hai Do Dilo Ki Surat Se
Aasma Ne Khush Hokar Rang Saa Bikhera Hai
Aasma Ne Khush Hokar

Thahte-thahre Paani Me Git Sar-saraate Hai
Thahte-thahre Paani Me Git Sar-saraate Hai
Bhige-bhige Jhoko Me Khushabuo Ka Dera Hai
Bhige-bhige Jhoko Me Khushabuo Ka Dera Hai
Parbato Ke Pedo Par

Kyo Na Jazb Ho Jaaye Is Hasin Nazaare Me
Kyo Na Jazb Ho Jaaye Is Hasin Nazaare Me
Roshni Ka Jhurmat Hai Mastiyo Ka Ghera Hai
Roshni Ka Jhurmat Hai Mastiyo Ka Ghera Hai
Parbato Ke Pedo Par

Ab Kisi Nazaare Ki Dil Ko Aarzu Kyo Ho
Ab Kisi Nazaare Ki Dil Ko Aarzu Kyo Ho
Jab Se Pa Liya Tumko Sab Jahan Mera Hai
Jab Se Pa Liya Tumko Sab Jahan Mera Hai
Parbato Ke Pedo Par Shaam Ka Basera Hai
Parbato Ke Pedo Par

Song Lyrics in Hindi Font/Text

पर्बतों के पेड़ों
पर शाम का बसेरा है
पर्बतों के पेड़ों
पर शाम का बसेरा है

सुरमई उजाला है
चम्पई अँधेरा है
सुरमई उजाला है
चम्पई अँधेरा है

दोनों वक़्त मिलते है
दो दिलो की सूरत से
दोनों वक़्त मिलते है
दो दिलो की सूरत से

आसमा ने खुश होकर
रंग सा बिखेरा है
आसमा ने खुश होकर

ठहरे ठहरे पानी
में गीत सार सराते है
ठहरे ठहरे पानी
में गीत सार सराते है

भीगे भीगे झोको में
खुशबु ो का डेरा है
भीगे भीगे झोको में
खुशबु ो का डेरा है
पर्बतों के पेड़ों पर

क्यों न जज़्ब हो जाए इस
हसीं नज़ारे में
क्यों न जज़्ब हो जाए इस
हसीं नज़ारे में

रोशनी का झुरमट है
मस्तियो का घेरा है
रोशनी का झुरमट है
मस्तियो का घेरा है
पर्बतों के पेड़ों पर

अब किसी नज़ारे की
दिल को आरज़ू क्यों हो
अब किसी नज़ारे की
दिल को आरज़ू क्यों हो
जब से प् लिया तुम को
सब जहां मेरा है

जब से प् लिया तुम को
सब जहां मेरा है
पर्बतों के पेड़ों पर
शाम का बसेरा है
पर्बतों के पेड़ों पर

Leave A Reply

Your email address will not be published.