Take a fresh look at your lifestyle.

Oonche Sur Mein Gaaye Ja Lyrics

0 129

Oonche Sur Mein Gaaye Ja Lyrics

Song Lyrics from the movie House No. 44 starring Dev Anand, Kalpana Kartik, K N Singh, Bhagwan, Kammo, Kum Kum, Rashid Khan, Zambura, Sheela Vaz, Prabhu Dayal. The film was released in the year 1955. Music was composed by S D Burman and lyrics were penned by Sahir Ludhianvi.

Movie Details

Movie: House No. 44

Singer/Singers: Asha Bhosle, Hemant Kumar, Kishore Kumar, Lata Mangeshkar

Music Director: S D Burman

Lyricist: Sahir Ludhianvi

Actors/Actresses: Dev Anand, Kalpana Kartik, K N Singh, Bhagwan, Kammo, Kum Kum, Rashid Khan, Zambura, Sheela Vaz, Prabhu Dayal

Year/Decade: 1955

Music Label: Saregama India Limited

Song Lyrics in English Text

Unche Sur Me Gaye Ja, Masti Me Lahraye Ja
Dunia Ke Bazar Me Apna Band Bajaye Ja
Unche Sur Me Gaye Ja, Masti Me Lahraye Ja
Dunia Ke Bazar Me Apna Band Bajaye Ja

Dunia Ke Bojh Ko Sar Se Utar De
Chinta Ke Bhut Ko Banduk Mar De
Dunia Ke Bojh Ko Sar Se Utar De
Chinta Ke Bhut Ko Banduk Mar De
Kyu Bhai Maine Thik Kaha Ha Bhai Tune Thik Kaha
Are Tab Fir Maine Thik Kaha
Unche Sur Me Gaye Ja, Masti Me Lahraye Ja
Dunia Ke Bazar Me Apna Band Bajaye Ja

Dunia Ki Gadiya
Dunia Ki Gadiya Chalti Hai Juth Par
Dunia Ko Mar De Bate Ke But Par
Dunia Ki Gadiya Chalti Hai Juth Par
Dunia Ko Mar De Bate Ke But Par
Kyu Bhai Maine Thik Kaha Ha Bhai Tune Thik Kaha
Are Tab Fir Maine Thik Kaha
Unche Sur Me Gaye Ja, Masti Me Lahraye Ja
Dunia Ke Bazar Me Apna Band Bajaye Ja

Dunia Ke Fer Me Padna Fazul Hai
Jindagi Usi Ki Hai Jo Ki Damphul Hai
Dunia Ke Fer Me Padna Fazul Hai
Jindagi Usi Ki Hai Jo Ki Damphul Hai
Kyu Bhai Maine Thik Kaha Tumne Bikul Thik Kaha
Are Tab Fir Maine Thik Kaha
Unche Sur Me Gaye Ja, Masti Me Lahraye Ja
Dunia Ke Bazar Me Apna Band Bajaye Ja

Song Lyrics in Hindi Text

ऊँचे सुर में गाये जा
मस्ती में लहराए जा
दुनिया के बाजार में
अपना बैंड बजाये जा
ऊँचे सुर में गाये जा
मस्ती में लहराए जा
दुनिया के बाजार में
अपना बैंड बजाये जा
दुनिया के बोझ को सर से उतर ड्डे
चिंता के भूत को बन्दुक मार दे
दुनिया के बोझ को सर से उतर ड्डे
चिंता के भूत को बन्दुक मार दे
क्यों भाई मैंने ठीक कहा
हा हा तुमने ठीक कहा
अरे तब फिर मैंने ठीक कहा
ऊँचे सुर में गाये जा
मस्ती में लहराए जा
दुनिया के बाजार में
अपना बैंड बजाये जा

दुनिया की गाड़िया
दुनिया की गाड़िया चलती है जूथ पर
दुनिया को मार् दे बते के बूत पर
दुनिया की गाड़िया चलती है जूथ पर
दुनिया को मार् दे बते के बूत पर
क्यों भाई मैंने ठीक कहा
हा हा तुमने ठीक कहा
अरे तब फिर मैंने ठीक कहा
ऊँचे सुर में गाये जा
मस्ती में लहराए जा
दुनिया के बाजार में
अपना बैंड बजाये जा

दुनिया के फेर में पड़ना फज़ुल है
ज़िन्दगी उसी की है जो की दम फूल है
दुनिया के फेर में पड़ना फज़ुल है
ज़िन्दगी उसी की है जो की दम फूल है
क्यों भाई मैंने ठीक कहा
तुमने बिकुल ठीक कहा
ऊँचे सुर में गाये जा
मस्ती में लहराए जा
दुनिया के बाजार में
अपना बैंड बजाये जा

Leave A Reply

Your email address will not be published.