Take a fresh look at your lifestyle.

Naye Kapde Badal Kar Lyrics

0 393

Naye Kapde Badal Kar Lyrics

Romantic song from the album Khayaal starring Pankaj Udhas. The album was released in the year 1992. Music was composed by N/A and lyrics were penned by Traditional Nasir kazmi.

Movie Details

Movie/Album: Khayaal

Singer/Singers: Pankaj Udhas

Music Director: N/A

Lyricist: Pankaj Udhas

Actors/Actresses: Pankaj Udhas

Year/Decade: 1992

Music Label: UMG

Song Lyrics in English Text

Saajan Humse Mile Bhi Lekin
Aise Mile Ke Haye
Jaise Sukhe Khet Se Baadal
Bin Barse Ud Jaye

Thandi Chandni Ujla Bistar Bhigi Bhigi Rain
Sabkuch Hai Par Wo Nahi
Jinko Taras Gaye Mere Nain
Naye Kapde Badal Kar Jaau Kahan
Naye Kapde Badal Kar Jaau Kahan
Aur Baal Banau Kiske Liye
Naye Kapde Badal Kar Jaau Kahan
Aur Baal Banau Kiske Liye
Wo Shakhs To Shehar Hi Chhod Gaya
Wo Shakhs To Shehar Hi Chhod Gaya
Main Bahar Jaau Kiske Liye
Naye Kapde Badal Kar Jaau Kahan

Jis Dhup Ki Dil Me Thandak Thi
Wo Dhup Usi Ke Sath Gayi
Jis Dhup Ki Dil Me Thandak Thi
Wo Dhup Usi Ke Sath Gayi
Wo Dhup Usi Ke Sath Gayi
Ab Shehar Ki Khali Galiyo Me
Ab Shehar Ki Khali Galiyo Me
Main Khaak Udau Kiske Liye
Wo Shakhs To Shehar Hi Chhod Gaya
Main Bahar Jaau Kiske Liye
Naye Kapde Badal Kar Jaau Kahan

Jab Tak Wo Tha To Uske Liye
Auro Se Bhi Milna Padta Tha
Jab Tak Wo Tha To Uske Liye
Auro Se Bhi Milna Padta Tha
Auro Se Bhi Milna Padta Tha
Ab Aise Waise Logo Ke
Ab Aise Waise Logo Ke
Main Naaz Uthau Kiske Liye
Wo Shakhs To Shehar Hi Chhod Gaya
Main Bahar Jaau Kiske Liye
Naye Kapde Badal Kar Jaau Kahan

Muddat Se Koi Aaya Na Gaya
Sunsan Padi Hai Ghar Ki Faza
Muddat Se Koi Aaya Na Gaya
Sunsan Padi Hai Ghar Ki Faza
Sunsan Padi Hai Ghar Ki Faza
In Khali Kamro Me Naasir
In Khali Kamro Me Naasir
Ab Shama Jalau Kiske Liye
Wo Shakhs To Shehar Hi Chhod Gaya
Main Bahar Jaau Kiske Liye
Naye Kapde Badal Kar Jaau Kahan
Aur Baal Banau Kiske Liye
Wo Shakhs To Shehar Hi Chhod Gaya
Main Bahar Jaau Kiske Liye
Naye Kapde Badal Kar Jaau Kahan

Song Lyrics in Hindi Font/Text

नए कपड़े बदल कर जाऊ कहाँ
नए कपड़े बदल कर जाऊ कहाँ
और बाल बनाऊ किसके लिए
नए कपड़े बदल कर जाऊ कहाँ
और बाल बनाऊ किसके लिए
वो शख्स तो शहर ही छोड़ गया
वो शख्स तो शहर ही छोड़ गया

मैं बाहर जाऊ किसके लिए
नए कपड़े बदल कर जाऊ कहाँ

जिस धुप की दिल में ठंडक थी
वो धुप उसी के साथ गई
जिस धुप की दिल में ठंडक थी
वो धुप उसी के साथ गई
वो धुप उसी के साथ गई
अब शहर की खाली गलियों में
अब शहर की खाली गलियों में
मैं ख़ाक उड़ाऊ किसके लिए
वो शख्स तो शहर ही छोड़ गया
मैं बाहर जाऊ किसके लिए
नए कपड़े बदल कर जाऊ कहाँ

जब तक वो था तो उसके लिए
औरों से भी मिलना पड़ता था
जब तक वो था तो उसके लिए
औरों से भी मिलना पड़ता था
औरों से भी मिलना पड़ता था
अब ऐसे वैसे लोगों के
अब ऐसे वैसे लोगों के
मैं नाज़ उगऊ किसके लिए
वो शख्स तो शहर ही छोड़ गया
मैं बाहर जाऊ किसके लिए
नए कपड़े बदल कर जाऊ कहाँ

मुद्दत से कोई आया ना गया
सुनसान पड़ी हैं घर की फ़ज़ा
मुद्दत से कोई आया ना गया
सुनसान पड़ी हैं घर की फ़ज़ा
सुनसान पड़ी हैं घर की फ़ज़ा
इन खाली कमरों में नासिर
इन खाली कमरों में नाप्िर
अब शमा जलाऊ किसके लिए
वो शख्स तो शहर ही छोड़ गया
मैं बाहर जाऊ किसके लिए
नए कपड़े बदल कर जाऊ कहाँ
और बाल बनाऊ किसके लिए
वो शख्स तो शहर ही छोड़ गया
मैं बाहर जाऊ किसके लिए
नए कपड़े बदल कर जाऊ कह

Leave A Reply

Your email address will not be published.