Take a fresh look at your lifestyle.

Mehfil Mein Aap Aaye Jaise Song Lyrics

0 167
Mehfil Mein Aap Aaye
Mehfil Mein Aap Aaye Song Lyrics

Mehfil Mein Aap Aaye Jaise Ke Chand Aaya, Song Lyrics from Movie Mohabbat Isko Kahete Hain. This Song sung by Asha Bhosle, Mohammed Rafi, Mukesh, Suman Kalyanpur. Music given by Khayyam & Lyrics written by Majrooh Sultanpuri. Star cast of this movie are Shashi Kapoor, Nanda, Anwar Hussan, Helen, Leela Chitnis, Ramesh Deo, Madan Puri

Movie Details

Movie: Mohabbat Isko Kahete Hain

Singer/Singers: Asha Bhosle, Mohammed Rafi, Mukesh, Suman Kalyanpur

Music Director: Khayyam

Lyricist: Majrooh Sultanpuri

Actors/Actresses: Shashi Kapoor, Nanda, Anwar Hussan, Helen, Leela Chitnis, Ramesh Deo, Madan Puri

Year/Decade: 1965

Music Label: Saregama Music

Song Lyrics in English Text

Mahfil Me Aap Aaye Jaise Ke Chand Aaya
Mahfil Me Aap Aaye Jaise Ke Chand Aaya
Ye Rukh Pe Kali Zulfe Ye Rukh Pe Kali Julfe Ye Badlo Ka Saya
Mahfil Me Aap Aaye Jaise Ke Chand Aaya

Aapke Aane Se Aapke Aane Se Is Dil Ne Dhadkna Sikha
Lijiye Hosh Ke Alam Me Bahakna Sikha
Dard Aaho Ka Maja Kya Hai Ye Jana Hamne
Halki Halki Si Aag Me Tapna Sikha
Kuch Ham Bhi Or Chamke Chamke
Kuch Ham Bhi Or Chamke Kuch Dil Bhi Jagmagaya
Mahfil Me Aap Aaye Jaise Ke Chand Aaya

Haye Re Rang Badalna Teri Ranayi Ka
Ab To Muskil Hai Sambalna Tere Saudaai Ka
Bekarai Ke Liye Yuhi Khatawaan Bahut
Gum Na Tha Pahle Hi Alam Teri Angadayi Ka
Us Par Tera Jhijhakana Jhijhkana Us Par Tera Jhijhakana
Kuch Or Rang Laya Mahfil Me Aap Aaye Jaise Ke Chand Aaya

Tum Na Dekho Unko Tamnna Hame Tadpati Hai
Dekhte Ho To Kayamat Gujar Jati Hai
Muskurahat Hai Ke Lahrati Hai Bijli
Jaise Dekhiya Aaj To Kiski Kaza Aati Hai
Ghabrayi Jab Mai Mahfil Mahfil Ghabrayi Jab Mai Mahfil
Parwana Jagmagaya Mahfil Me Aap Aaye Jaise Ke Chand Aaya
Ye Rukh Pe Kali Julfe Ye Rukh Pe Kali Julfe Ye Badlo Ka Saya
Mahfil Me Aap Aaye Jaise Ke Chand Aaya

Song Lyrics in Hindi Text

महफ़िल में आप आये
महफ़िल में आप आये जैसे के चाँद आया
महफ़िल में आप आये जैसे के चाँद आया

ये रुख पे काली जुल्फें जुल्फ़े
ये रुख पे काली जुल्फें ये बादलों का साया
महफ़िल में आप आये जैसे के चाँद आया

आपके आने से
आपके आने से इस दिल ने धड़कना सिखा
बिन तेरे होस के आलम में बहकना सीखा
दर्द ाहो का मजा क्या है ये जाना हमने
हलकी हलकी सी किसी आंच में तपने सीखा

कुछ हम भी और चमके चमके
कुछ हम भी और चमके
कुछ दिल भी जगमगाया
महफ़िल में आप आये जैसे के चाँद आया

हाय रे रंग बदलना तेरी रानाई का
अब तो मुश्किल है संबलना तेरे सौदाई का
बेकरारी का ये युही फ़िज़ा महँ बहुत
गम न था पहले इस आलम तेरी अंगड़ाई का

उस पर तेरा झिझकना झिझकना
उस पर तेरा झिझकना
कुछ और रंग लाया
महफ़िल में आप आये जैसे के चाँद आया

तुम न देखो तो तमन्ना हमें तड़पती है
देखते हो तो क़यामत सी गुज़र जाती है
मुस्कराहट है कि लहराती है बिजली जैसे
देखिये आज तो किसकी कज़ा आती है

घबरायी सम्मे महफ़िल महफ़िल
घबरायी सम्मे महफ़िल
परवाना जगमगाया

महफ़िल में आप आये जैसे के चाँद आया
ये रुख पे काली जुल्फें जुल्फ़े
ये रुख पे काली जुल्फें ये बादलों का साया
महफ़िल में आप आये जैसे के चाँद आया.

Leave A Reply

Your email address will not be published.