Take a fresh look at your lifestyle.

Koi Bahar Banke Aaye, Song Lyrics

0 102
Koi Bahar Banke Aaye
Koi Bahar Banke Aaye Song Lyrics

Koi Bahar Banke Aaye, Song Lyrics from Movie Insaaf Ka Mandir. This Song sung by Asha Bhosle, Mohammed Rafi, Suman Kalyanpur, Mukesh. Music given by Sapan Jagmohan & Lyrics written by Anwar Sahasrami, Naqsh Lyallpuri. Star cast of this movie are Prithviraj Kapoor, Sanjeev Kumar, Sneh Lata, Nadira, Aruna Irani, Sapru, Tarun Bose, Asit Sen

Movie Details

Movie: Insaaf Ka Mandir

Singer/Singers: Asha Bhosle, Mohammed Rafi, Suman Kalyanpur, Mukesh

Music Director: Sapan Jagmohan

Lyricist: Anwar Sahasrami, Naqsh Lyallpuri

Actors/Actresses: Prithviraj Kapoor, Sanjeev Kumar, Sneh Lata, Nadira, Aruna Irani, Sapru, Tarun Bose, Asit Sen

Year/Decade: 1970

Music Label: Saregama Music

Song Lyrics in English Text

Koi Bahar Banke Koi Bahar Banke
Aaye Bhigi Raato Mein Khoi Khoi Ankho Mein
Haan Ghul Jae Pyar Banke Koi Bahar Banke

Rangeen Sa Ye Anchal Lehraye Yu Pawan Mein
Sawan Mein Jaise Koi Badal Ude Gagan Mein
Phoolon Ka Pyar Banke
Koi Bahar Banke Koi Bahar Banke
Aaye Bhigi Raato Mein Khoi Khoi Ankho Mein
Haan Ghul Jae Pyar Banke Koi Bahar Banke

Takti Hai Raah Kabse Tanhaiya Kisi Ki
Sapno Mein Dekhti Hoon Parchaiaan Kisi Ki
Mai Intezaar Banke
Koi Bahar Banke Koi Bahar Banke

Dhadkan Mein Aa Basa Hai Geeto Mein Dhal Raha Hai
Ye Kaun Hai Jo Meri Saanso Mein Chal Raha Hai
Ik Raazdar Banke
Koi Bahar Banke Koi Bahar Banke
Aaye Bhigi Raato Mein Khoi Khoi Ankho Mein
Haan Ghul Jae Pyar Banke Koi Bahar Banke

Song Lyrics in Hindi Text

कोई बहार बन के
कोई बहार बन के
आये भीगी रातों में
खोयी खोयी आँखों में
घुल जाए प्यार बन के
कोई बहार बन के

रंगीन सा यह आँचल
लेहरायए यूँ पवन में
सावन में जैसे कोई
बदल उडे गगन में
फूलो का प्यार बन के
कोई बहार बन के
कोई बहार बन के
आये भीगी रातों में
खोयी खोयी आँखों में
घुल जाए प्यार बन के
कोई बहार बन के

तकती है राह कब से
तन्हाईया किसी की
सपनो में देखते हैं
परछाईया किसी की
मैं इंतज़ार बन के
कोई बहार बन के
कोई बहार बन के
आये भीगी रातों में
खोयी खोयी आँखों में
घुल जाए प्यार बन के
कोई बहार बन के

धड़कन में आ बसा है
गीतों में ढल रहा है
यह कौन जो मेरी
साँसों में चल रह है
एक राज़ दर बन के
कोई बहार बन के
कोई बहार बन के
आये भीगी रातों में
खोयी खोयी आँखों में
घुल जाए प्यार बन के
कोई बहार बन के.

Leave A Reply

Your email address will not be published.