Take a fresh look at your lifestyle.

Jeete Hain Chal जीते हैं चल Song Lyrics

0 206
Jeete Hain Chal Song Lyrics
Jeete Hain Chal Song Lyrics

Jeete Hain Chal Lyrics, from the movie Neerja. This song is sung by Kavita Seth and the movie was released in the year 2016. Music was composed by Vishal Khurana and lyrics were penned by Prasoon Joshi.

Movie Details

Movie: Neerja 

Singer/Singers: Kavita Seth

Music Director: Vishal Khurana

Lyricist: Prasoon Joshi

Year/Decade: 2016

Music Label: T-Series

Song Lyrics in English Text

Om tryambakam yajamahe
Sugandhim pushtivardhanam
Urvarukmiva bandhanan
Mrityor mukshiya maamritat

Kehta yeh pal
Khud se nikal
Jeete hain chal
Jeete hain chal
Jeete hain chal

Gham musafir tha jaane de
Dhoop aangan mein aane de
Jeete hain chal
Jeete hain chal
Jeete hain chal

Talvon ke neeche hai thandi si ek dharti
Kehti hai aaja daudenge
Yaadon ke bakson mein zinda si khushboo hai
Kehti hai sab pichhe chhodenge

Ungliyon se kal ki ret behne de
Aaj aur abhi mein khud ko rehne de

Kehta yeh pal
Khud se nikal
Jeete hain chal
Jeete hain chal
Jeete hain chal

Ek tukda haseen chakh le
Ik dali zindagi rakh le
Jeete hain chal
Jeete hain chal
Jeete hain chal

Hichki ruk jaane de
Siski tham jaane de
Iss pal ki ye guzaarish hai
Marna kyun, jee lena
Boondon ko pee lena
Tere hi sapno ki baarish hai

Paaniyon ko raste tu banaane de
Roshni ke pichhe khud ko jaane de

Kehta yeh pal
Khud se nikal
Jeete hain chal
Jeete hain chal
Jeete hain chal

Om tryambakam yajamahe
Sugandhim pushtivardhanam
Urvarukmiva bandhanan
Mrityor mukshiya maamritat
Urvarukmiva bandhanan
Mrityor mukshiya maamritat

Kehta yeh pal
Khud se nikal
Jeete hain chal
Jeete hain chal
Jeete hain chal
Jeete hain chal

Song Lyrics in Hindi Text

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे
सुगंधिम पुस्त्ती वर्धनम
उर्वरुकमिवा बन्धनं
म्र्त्योर मुकस्सी यमाम्र्तात
कहता ये पल
ख़ुद से निकल
जीते हैं चल, जीते हैं चल
जीते हैं चल
ग़म मुसाफ़िर था जाने दे
धुप आँगन में आने दे
जीते हैं चल, जीते हैं चल
जीते हैं चल
तलवों के नीचे है ठंडी सी इक धरती
कहती है आजा दौड़ेंगे
यादों के दक्शों में जिन्दा सी ख़ुशबू है
कहती है सब पीछे छोड़ेंगे
उँगलियों से कल की रेत बहने दे
आज और अभी में ख़ुद को रहने दे
कहता ये पल
ख़ुद से निकल
जीते हैं चल, जीते हैं चल
जीते हैं चल
एक टुकड़ा हसीं चख ले
इक डाली ज़िन्दगी रख ले
जीते हैं चल, जीते हैं चल
जीते हैं चल
हिचकी रुक जाने दे
सिसकी थम जाने दे
इस पल की ये गुज़ारिश है
मरना क्यूँ जी लेना
बूंदों को पी लेना
तेरे ही सपनों की बारिश है
पानियों को रस्ते तू बनाने दे
रौशनी के पीछे ख़ुद को जाने दे
कहता ये पल
ख़ुद से निकल
जीते हैं चल, जीते हैं चल
जीते हैं चल
ॐ त्र्यम्बकं याजमाहे
सुगंधिम पुस्स्त्ती वर्धनम
उर्वरुकमिवा बन्धनं
म्र्त्योर मुकस्सी बन्धनं
उर्वरुकमिवा बन्धनं
म्र्त्योर मुकस्सी बन्धनं
कहता ये पल
ख़ुद से निकल
जीते हैं चल, जीते हैं चल
जीते हैं चल

Leave A Reply

Your email address will not be published.