Take a fresh look at your lifestyle.

Husn E Maghroor, Song Lyrics

0 144
Husn E Maghroor
Husn E Maghroor Song Lyrics

Husn E Maghroor, Song Lyrics from Movie Sarfarosh. This Song sung by Asha Bhosle, Suman Kalyanpur, Mohammed Rafi. Music given by S Mohinder & Lyrics written by Naqsh Lyallpuri. Star cast of this movie are Jairaj, Nishi, Jeevan, Sherry, Maruti, Pratima Devi, Jagirdar

Movie Details

Movie: Sarfarosh

Singer/Singers: Asha Bhosle, Suman Kalyanpur, Mohammed Rafi

Music Director: S Mohinder

Lyricist: Naqsh Lyallpuri

Actors/Actresses: Jairaj, Nishi, Jeevan, Sherry, Maruti, Pratima Devi, Jagirdar

Year/Decade: 1964

Music Label: Saregama Music

Song Lyrics in English Text

Husn-e-magrur Ne Palko Ko Jhuka Rakha Hai
Raaz Ulfat Ka Nigaho Me Chupa Rakha Hai
Ishq Khuddar Hai Vo Bhi Na Juban Kholega
Fasla Ishq Me Dono Ne Badha Rakha Hai
Yu Mile Ki Mulakat Ho Na Saki
Yu Mile Ki Mulakat Ho Na Saki
Hoth Kanpe Magar Baat Ho Na Saki
Hoth Kanpe Magar Baat Ho Na Saki
Yu Mile Ki Mulakat Ho Na Saki
Yu Mile Ki Mulakat Ho Na Saki
Ho Na Saki, Ho Na Saki
Hoth Kanpe Magar Baat Ho Na Saki
Hoth Kanpe Magar Baat Ho Na Saki

Har Najar Ek Nayi Dastan Keh Gayi
Har Najar Ek Nayi Dastan Keh Gayi
Unko Shikva Hai Ke Baat Ho Na Saki
Unko Shikva Hai Ke Baat Ho Na Saki
Har Najar Ek Nayi Dastan Keh Gayi
Har Najar Ek Nayi Dastan Keh Gayi
Dastan Keh Gayi, Dastan Keh Gayi
Unko Sikva Hai Ke Baat Ho Na Saki

Ye Husn Ye Ada Ye Jawnai Ye Baakpan
Jaise Bhari Bahar Ke Aagosh Me Chaman
Chehre Pe Rango Noor Ki Barsi Hui Ghata
Rangeen Si Nigah Me Rangeen Sa Nasha
Julfe Khule To Chum Le Sawan Ki Badliya
Najare Uthe To Raks Me Aa Jaye Bijaliya
Ye Phul Se Hotho Pe Baharo Ke Fasane
Dhala Hai Tumhe Noor Ke Sanche Me Khuda Ne
Dhala Hai Tumhe Noor Ke Sanche Me Khuda Ne
Noor Jalvo Ka Mehfil Me Barsa Magar
Noor Jalvo Ka Mehfil Me Barsa Magar
Dil Ke Daman Pe Barsaat Ho Na Saki
Yu Mile Ki Mulakat Ho Na Saki
Yu Mile Ki Mulakat Ho Na Saki
Ho Na Saki, Ho Na Saki
Hoth Kanpe Magar Baat Ho Na Saki
Hoth Kanpe Magar Baat Ho Na Saki

Shama Ka Husn Dekh Ke Parvane Jal Gaye
Lo Aaj Apni Aag Me Diwane Jal Gaye
Dekha Jo Ranje Husn Tabiyat Machal Gayi
Beikhtiyar Aahate Dil Se Nikal Gayi
Chhuta Jo Hath Hath Se Sabro Karar Ka
Ja Aage Badh Ke Tham Le Daman Bahar Ka
Dekha Hai Kahi Raat Ke Raahi Ne Savera
Bhatke Hue Dilo Ka Mukadar Hai Andhera
Bhatke Hue Dilo Ka Mukadar Hai Andhera
Panv Utate To Gesuye Manjil Magar
Panv Utate To Gesuye Manjil Magar
Raah Ki Roshni Sath Ho Na Saki
Raah Ki Roshni Sath Ho Na Saki
Har Najar Ek Nayi Dastan Keh Gayi
Har Najar Ek Nayi Dastan Keh Gayi
Ji Dastan Keh Gayi
Unko Sikva Hai Ke Baat Ho Na Saki
Unko Sikva Hai Ke Baat Ho Na Saki

Tere Siva Jahan Me Koi Dusra Nahi
Ae Husn Ye Gurur Ye Dava Baja Nahi
Ham Kya Hai Hame Dekh Tu Hamse Najar Mila
Hamne Kiya Hai Tumse Mohabbat Se Aasna
Pattar Ko Dard Baks Diya Dil Bana Diya
Chaha Tumhe To Naaz Ke Kabil Bana Diya
Hasti Ko Teri Hamne Sanwara Saja Diya
Jarre Ko Aasman Ka Sitara Bana Diya
Jarre Ko Aasman Ka Sitara Bana Diya
Aankh Uthne Se Pehle Hi Sharma Gayi
Aankh Uthne Se Pehle Hi Sharma Gayi
Julf Bikhari Par Raat Ho Na Saki
Julf Bikhari Par Raat Ho Na Saki
Yu Mile Me Mulakat Ho Na Saki
Yu Mile Me Mulakat Ho Na Saki
Ho Na Saki, Ho Na Saki
Hoth Kanpe Magar Baat Ho Na Saki
Hoth Kanpe Magar Baat Ho Na Saki

Machle Hai Sare Badan Diwane Husn Ke
Samjhenge Nadan Kya Afsane Husn Ke
Shabnam Hi Nahi Shola Sharara Bhi Hai Ye Husn
Ek Phul Hi Nahi Hai Angara Bhi Hai Ye Husn
Nagmo Ka Tarannum Bhi Hai Aaho Ka Taaz Bhi
Raato Ki Bekarari Bhi Khawabo Ka Raaz Bhi
Saudaai Husn Ke Jara Aaram Se Baithe
Jo Thamne Aaye Hai To Dil Tham Ke Baithe
Bajiye Jaan Dil To Lagi Baar Hai
Bajiye Jaan Dil To Lagi Baar Hai
Husn Ko Par Kabhi Maat Ho Na Saki
Husn Ko Par Kabhi Maat Ho Na Saki
Unko Shikva Hai Ke Baat Ho Na Saki
Unko Shikva Hai Ke Baat Ho Na Saki
Unko Shikva Hai Ke Baat Ho Na Saki
Har Najar Ek Nayi Dastan Keh Gayi
Har Najar Ek Nayi Dastan Keh Gayi
Ji Dastan Keh Gayi
Unko Shikva Hai Ke Baat Ho Na Saki
Unko Shikva Hai Ke Baat Ho Na Saki

Song Lyrics in Hindi Text

हुस्ने मगरूर ने पलकों
झुका रखा है
राज़ उल्फत का निगाहो में
छुपा रखा है
इश्क़ खुद्दार है
वो भी न जुबान खोलेंगे
फैसला इश्क़ में दोनों
ने बड़ा रखा है
यु मील के मुलाकात हो न सकी
यु मील के मुलाकात हो न सकी
होंठ कांपे मगर बात हो न सकी
होंठ कांपे मगर बात हो न सकी
यु मील के मुलाकात हो न सकी
यु मील के मुलाकात हो न सकी
हो न सकी हो न सकी
होंठ कांपे मगर बात हो न सकी
होंठ कांपे मगर बात हो न सकी

हर नज़र एक नयी दास्ताँ कह गयी
हर नज़र एक नयी दास्ताँ कह गयी
उनको सिकवा है के बात हो न सकी
उनको सिकवा है के बात हो न सकी
हर नज़र एक नयी दास्ताँ कह गयी
हर नज़र एक नयी दास्ताँ कह गयी
दास्ताँ कह गयी दास्ताँ कह गयी
उनको सिकवा है के बात हो न सकी
उनको सिकवा है के बात हो न सकी

यह हुस्न यह ऐडा यह
जाने यह बाँकपन
जैसे भरी बहार के
आगोश में चमन
चेहरे पे रंगों नूर की
बरसी हुई घटा
रंगीन सी निगाह में
रंगीन सा नशा
जुल्फें खुली तो चुम ले
सावन की बदलिया
नज़ारे उठे तो रक़्स में
आ जाये बिजलिया
यह फूल से होठों पे
बहरो के फ़साने
ढला है तुम्हे नूर के
सांचे में खुद में
ढला है तुम्हे नूर के
सांचे में खुद में
नूर जलवो का महफ़िल
में बरसा मगर
नूर जलवो का महफ़िल
में बरसा मगर
दिल के दामन पे बरसात हो न सकी
दिल के दामन पे बरसात हो न सकी
यु मील के मुलाकात हो न सकी
यु मील के मुलाकात हो न सकी
हो न सकी हो न सकी
होंठ कांपे मगर बात हो न सकी
होंठ कांपे मगर बात हो न सकी

समां का हुस्न देख
के परवाने जल गए
लो आज अपनी आग में
दीवाने जल गए
देखा जो रेंज हुस्न
तबियत मचल गयी
बेइख्तियार आहाते दिल से निकल गयी
छूटा जो हाथ हाथ
से सब्रो करार का
जा आगे बढ़ के थाम ले
दमन बहार का
देखो के कही है रात
के राही ने सवेरा
भटके हुए दिलो का
मुकदर है अँधेरा
भटके हुए दिलो का
मुकदर है अँधेरा
पाव उत्ते तो गेसुए मंजिल मगर
पाव उत्ते तो गेसुए मंजिल मगर
राह की रौशनी साथ हो न सकी
राह की रौशनी साथ हो न सकी
राह की रौशनी साथ हो न सकी
हर नज़र एक नयी दास्ताँ कह गयी
हर नज़र एक नयी दास्ताँ कह गयी
जी दास्ताँ कह गयी
उनको सिकवा है के बात हो न सकी
उनको सिकवा है के बात हो न सकी

तेरे सिवा जहाँ में
कोई दूसरा नहीं
ऐ हुस्न यह गुरूर
यह दवा बजा नहीं
हम क्या है हमे देख तू
हमसे नज़र मिला
हमने किया है तुमसे
मोहब्बत से ासना
पत्थर को दर्द बाक्स
दिया दिल बना दिया
चाहा तुम्हे तो नाज़
के काबिल बना दिया
हस्ती को तेरी हमने
संवारा सजा दिया
जरे को आसमान का
सितारा बना दिया
जरे को आसमान का
सितारा बना दिया
आग उठने से पहले
ही शरमा गयी
आग उठने से पहले
ही शरमा गयी
ज़ुल्फ़ बिखरी पर रात हो न सकी
ज़ुल्फ़ बिखरी पर रात हो न सकी
यु मील के मुलाकात हो न सकी
यु मील के मुलाकात हो न सकी
हो न सकी हो न सकी
होंठ कांपे मगर
बात हो न सकी
होंठ कांपे मगर
बात हो न सकी

मचले है सारे बदन
दीवाने हुस्न के
समझेंगे नादाँ क्या
अफ़साने हुस्न के
सबनम ही नहीं शोला
सरारा भी है यह हुस्न
एक फूल ही नहीं है अंगारा
भी है यह हुस्न
नग्मों का चरनन भी
है ाहो का ताज भी
रातो की बेकरारी भी
ख्वाबो का राज़ भी
तौबा यह हुस्न के
ज़रा आराम से बतइहे
जो सामने आये तो दिल थाम के बैठे
जो सामने आये तो दिल थाम के बैठे
बजी तो यह जानो दिल तो लगी बार है
बजी तो यह जानो दिल तो लगी बार है
हुस्न को पर कभी मात हो न सकी
हुस्न को पर कभी मात हो न सकी
उनको सिकवा है के बात हो न सकी
उनको सिकवा है के बात हो न सकी
उनको सिकवा है के बात हो न सकी
हर नज़र एक नयी दास्ताँ कह गयी
हर नज़र एक नयी दास्ताँ कह गयी
जी दास्ताँ कह गयी
उनको सिकवा है के बात हो न सकी
उनको सिकवा है के बात हो न सकी.

Leave A Reply

Your email address will not be published.