Take a fresh look at your lifestyle.

Hum Sabko Nek Raah Chalana Mere Allah, Song Lyrics

0 330
Hum Sabko Nek Raah Chalana
Hum Sabko Nek Raah Chalana Song Lyrics

Hum Sabko Nek Raah Chalana Mere Allah, Song Lyrics from Movie Dada. This Song sung by Vijay Yesudas, Mohammed Rafi, Shailendra Singh, Suman Kalyanpur, Hemlata, Dilraj Kaur. Music given by Usha Khanna & Lyrics written by Asad Bhopali, Ravindra Jain, Kulwant Jani, Mahendra Dehlvi, Gauhar Kanpuri. Star cast of this movie are Vinod Mehra, Bindiya Goswami, Amjad Khan, Jagdeep, Shashi Puri, Jeevan, Raza Murad, Madhu Malini, Indrani Mukherji, Jayshree T, Seema Deo, Ramesh Deo, Rajinder Nath, Vijaya Chowdhary, Satyen Kappu, Mohan Choti, Pallavi Joshi

Movie Details

Movie: Dada

Singer/Singers: Vijay Yesudas, Mohammed Rafi, Shailendra Singh, Suman Kalyanpur, Hemlata, Dilraj Kaur

Music Director: Usha Khanna

Lyricist: Asad Bhopali, Ravindra Jain, Kulwant Jani, Mahendra Dehlvi, Gauhar Kanpuri

Actors/Actresses: Vinod Mehra, Bindiya Goswami, Amjad Khan, Jagdeep, Shashi Puri, Jeevan, Raza Murad, Madhu Malini, Indrani Mukherji, Jayshree T, Seema Deo, Ramesh Deo, Rajinder Nath, Vijaya Chowdhary, Satyen Kappu, Mohan Choti, Pallavi Joshi

Year/Decade: 1979

Music Label: Saregama Music

Song Lyrics in English Text

Hum Sabko Nek Rah Chalana Mere Allah
Bando Ko Burai Se Bachana Mere Allah
Allah Karam Karna, Maula Tu Reham Karna
Allah Karam Karna, Maula Tu Reham Karna

Ik Vakaya Sunati Hoon Main Apni Zubani
Apne Bado Se Maine Suni Hai Ye Kahani
Rehta Tha Kisi Shehar Me Ek Aisa Bhi Insan
Jo Nam Ka Muslim Thha Magar Kam Ka Shaitan
Zalim Ko Zor-e-bazoo Pe Apne Guroor Tha
Yani Ke Bekhudi Me Khuda Se Wo Door Tha
Sab Log Use Kehtey The Jallad Sitamgar
Masoom Ki Fariyad Ka Us Pe Na Tha Asar
Jo Wada Us Ne Kar Liya Wo Kar Ke Dikhaya
Paiso Ke Liye Qatl Kiye Khoon Bahaya
Ik Din Wo Behta Khoon Asar Us Pe Kar Gaya
Insan Zinda Ho Gaya Shaitan Mar Gaya
Allah Karam Karna, Maula Tu Reham Karna
Allah Karam Karna, Maula Tu Reham Karna

Iman Jise Kehte Hain Farman-e-khuda Hai
Quran Ke Har Lafz Me Us Ki Hi Sada Hai
Allah Ne Bakshi Hai Jo Iman Ki Daulat
Ye Sab Se Badi Cheez Hai Insan Ki Daulat
Soye Huye Dilo Ko Jagata Hai Ye Iman
Bhatke Huyo Ko Rah Dikhata Hai Ye Iman
Iman Ki Garmi Se Pighal Jate Hain Patthar
Is Noor Se Bante Hain Sanwarte Hain Muqaddar
Jo Sab Se Pyar Karta Hai Insan Wohi Hai
Muslim Hai Wohi, Sahibe-iman Wohi Hai
Allah Karam Karna, Maula Tu Reham Karna
Allah Karam Karna, Maula Tu Reham Karna

Jis Kam Ke Karne Pe Na Ho Razi Koi Dil
Wo Kam Bhi Is Duniya Me Nafrat Ke Hai Kabil
Jo Kuchh Bhi Zuban Keh De Wo Iqrar Nahi Hai
Laghzish Hai Labo Ki Wo Gunehgar Nahi Hai
Jo Dil Se Nahi Karta Burai Ka Irada
Allah Se Wo Tauba Karey Tod De Wada
Jaldi Jo Sambhal Jaye Wo Nadan Nahin Hai
Iman Jis Me Ho Wo Beiman Nahin Hai
Duniya Me Hamesha To Nahi Rehta Andhera
Insan Jahan Jage Wahi Pe Hai Savera
Allah Karam Karna, Maula Tu Reham Karna
Allah Karam Karna, Maula Tu Reham Karna

Jo Sacche Dil Se Karta Hai Iman Ki Arzoo
Allah Ki Nazaron Mein Wo Hota Hai Surkh-rooh
Iman Me Kya Kya Na Saha Pyare Nabee Ne
Kya Aisi Musibat Bhi Utthayi Hai Kisi Ne
Karbal Ke Shaheedo Ne Sabak Hum Ko Padhaya
Sajde Me De Ke Jan Ko Iman Bachaya
Iss Rah Me Jo Sehte Hain Taqleef-o-musibat
Ik Roz Un Pe Hoti Hai Allah Ki Rehmat
Insan Hai Wo Jo Dusaro Ka Dil Na Dukhaye
Pad Jaye Agar Jan Pe To Jan Lutaye
Allah Karam Karna, Maula Tu Reham Karna
Allah Karam Karna, Maula Tu Reham Karna

Song Lyrics in Hindi Text

हम सबको नेक राह
चलना मेरे अल्लाह
बन्दों को बुराई से
बचाना मेरे अल्लाह
अल्लाह करम करना
मौला तू रहम करना
अल्लाह करम करना
मौला तू रहम करना

एक वाकया सुनाती हूँ
मैं अपनी ज़ुबानी
अपने बड़ों से मैंने
सुनी है ये कहानी
रहता था किसी शहर
में एक ऐसा भी इंसान
जो नाम का मुस्लिम था
मगर काम का शैतान

ज़ालिम को ज़ोर इ बाज़ू
पे अपने गुरुर था
यानि के बेख़ुदी में
खुदा से वो दूर था
सब लोग उसे कहते थे
जल्लाद सितमगर
मासूम की फ़रियाद
का उस पे न था असर
जो वादा उस ने कर लिया
वो कर के दिखाया
पैसों के लिए क़त्ल
किये खून बहाया
इक दिन वो बहता खून
असर उस पे कर गया
इंसान ज़िंदा हो गया
शैतान मर गया
अल्लाह करम करना
मौला तू रहम करना
अल्लाह करम करना
मौला तू रहम करना

ईमान जिसे कहते हैं
फरमान ए खुदा है
कुरान के हर लफ्ज़
में उस की ही सादा है
अल्लाह ने बख्शी है
जो ईमान की दौलत
ये सब से बड़ी चीज़
है इंसान की दौलत
सोए हुए दिलों को
जगाता है ये ईमान
भटके हुओं को राह
दिखाता है ये ईमान
ईमान की गर्मी से
पिघल जाते हैं पत्थर
इस नूर से बनते हैं
संवारते हैं मुक़द्दर
जो सब से प्यार करता
है इंसान वही है
मुस्लिम है वोही
साहिब ए ईमान वही है
अल्लाह करम करना
मौला तू रहम करना
अल्लाह करम करना
मौला तू रहम करना

जिस काम के करने पे
न हो राज़ी कोई दिल
वो काम भी इस दुनिया
में नफरत के ही काबिल
जो कुछ भी जुबां
कह दे वो इक़रार नहीं है
लग़ज़िश है लबों की
वो गुनहगार नहीं है
जो दिल से नहीं करता
बुराई का इरादा
अल्लाह से वो तौबा
करे तोड़ दे वादा
जल्दी जो संभल जाए
वो नादान नहीं है
ईमान जिस में हो
वो बेईमान नहीं है
दुनिया में हमेशा
तो नहीं रहता अन्धेरा
इंसान जहां जागे
वहीँ पे है सवेरा
अल्लाह करम करना
मौला तू रहम करना
अल्लाह करम करना
मौला तू रहम करना

जो सच्चे दिल से करता
है ईमान की आरज़ू
अल्लाह की नज़रों में
वो होता है सुर्ख रूह
ईमान में क्या क्या
न सहा प्यारे नबी ने
क्या ऐसी मुसीबत भी
उठायी है किसी ने
कर्बल के शहीदों ने
सबक हम को पढ़ाया
सजदे में दे के जान
को ईमान बचाया
इस राह में जो सेह्ते
हैं तक़लीफ़ ो मुसिबत
इक रोज़ उन पे होती
है अल्लाह की रहमत
इंसान है वो जो दूसरों
का दिल न दुखाए
पड़ जाए अगर जान
पे तो जान लुटाएं
अल्लाह करम करना
मौला तू रहम करना
अल्लाह करम करना
मौला तू रहम करना.

Leave A Reply

Your email address will not be published.