Take a fresh look at your lifestyle.

Hatho Ki Chand Lakiro Ka Lyrics

0 147

Hatho Ki Chand Lakiro Ka Lyrics

Song Lyrics from the movie Vidhaata starring Dilip Kumar, Sanjay Dutt, Padmini Kolhapure, Sarika, Shammi Kapoor, Sanjeev Kumar, Amrish Puri. The film was released in the year 1982 . Music was composed by Kalayanji, Anandji and lyrics were penned by Anand Bakshi.

Movie Details

Movie: Vidhaata

Singer/Singers: Alka Yagnik, Anand Bakshi, Anuradha Paudwal, Asha Bhosle, Kishore Kumar, Sadhana Sargam, Suresh Wadkar

Music Director: Kalayanji, Anandji

Lyricist: Anand Bakshi

Actors/Actresses: Dilip Kumar, Sanjay Dutt, Padmini Kolhapure, Sarika, Shammi Kapoor, Sanjeev Kumar, Amrish Puri

Year/Decade: 1982

Music Label: Saregama India Limited

Song Lyrics in English Text

Hatho Ki Chand Lakiro Ka, Hatho Ki Chand Lakiro Ka
Sab Khel Hai Hai Bas Taqdiro Ka
Sab Khel Hai Hai Bas Taqdiro Ka
Taqdir Hai Kya Mai Kya Jaanu
Taqdir Hai Kya Mai Kya Jaanu
Taqdir Hai Kya Mai Kya Jaanu
Mai Aashiq Hu Tadbiro Ka
Mai Aashiq Hu Tadbiro Ka, Hatho Ki Chand Lakiro Ka
Tiri Tam Ta Tam Tiri Tam Ta Tam
Tiri Tam Ta Tam Tiri Tam Ta Tam

Apni Taqdir Se Kon Lade, Panghat Pe Pyase Log Khade
Apni Taqdir Se Kon Lade, Panghat Pe Pyase Log Khade
Mujhko Karne Hai Kaam Bade
O Yara Kaam Bade, O Lala Kaam Bade
O Shok Tujhe Taqriro Ka, O Shok Tujhe Taqriro Ka
Mai Aasiq Hu Tadbiro Ka, Hatho Ki Chand Lakiro Ka

Mai Maalik Apni Kismat Ka, Mai Banda Apni Himmat Ka
Mai Maalik Apni Kismat Ka, Mai Banda Apni Himmat Ka
Dekhenge Tamasa Daulat Ka, O Yara Daulat Ka
Hum Besh Badal Ke Fakiro Ka
Hum Besh Badal Ke Fakiro Ka, Dekhenge Khel Taqdiro Ka
Taqdir Hai Kya Mai Kya Jaanu
Taqdir Hai Kya Mai Kya Jaanu
Mai Aasiq Hu Tadbiro Ka, Hatho Ki Chand Lakiro Ka

Song Lyrics in Hindi Font/Text

हाथों की चंद लकीरों का
हाथों की चंद लकीरों का
सब खेल है है बस तक़्दीरों का
सब खेल है है बस तक़्दीरों का
तक़दीर है क्या मै क्या जानू
तक़दीर है क्या मै क्या जानू
तक़दीर है क्या मै क्या जानू
मैं आशिक़ हूँ तदबीरों का
मैं आशिक़ हूँ तदबीरों का
हाथों की चंद लकीरों का

तिरि ताम ते तँ तिरि तम त ताम

अपनी तक़दीर से कौन लड़े
पनघट पे प्यासे लोग खड़े
अपनी तक़दीर से कौन लड़े
पनघट पे प्यासे लोग खड़े
मुझको करने है काम बड़े
ओ यारा काम बड़े
ो लाला काम बड़े
ओ शोक तुझे तक़रीरों का
ओ शोक तुझे तक़रीरों का
मैं आशिक़ हूँ तदबीरों का
हाथों की चंद लकीरों का

मैं मालिक अपनी किस्मत का
मैं बाँदा अपनी हिम्मत का
मैं मालिक अपनी किस्मत का
मैं बाँदा अपनी हिम्मत का
देखेंगे तमसा दौलत का
ओ यारा दौलत का
हम भेष बदल के फकीरो का
हम भेष बदल के फकीरो का
देखेंगे खेल तक़्दीरों का
तक़दीर है क्या मैं क्या जानू
मैं आशिक़ हूँ तदबीरों का
हाथों की चंद लकीरों का

Leave A Reply

Your email address will not be published.