Take a fresh look at your lifestyle.

Goom Hai Kisi Ke Pyar Mein Lyrics

0 296

gum hai kisi k

Romantic song from the movie Rampur Ka Lakshman starring Rekha, Randhir Kapoor. The film was released in the year 1972. Music was composed by R D Burman and lyrics were penned by Majrooh Sultanpuri.

Movie Details

Movie: Rampur Ka Lakshman

Singer/Singers: Kishore Kumar, Lata Mangeshkar

Music Director: R D Burman

Lyricist: Majrooh Sultanpuri

Actors/Actresses: Rekha, Randhir Kapoor

Year/Decade: 1972

Music Label: Saregama Music

Song Lyrics in English Text

Goom Hai Kisi Ke Pyar Me, Dil Subah Sham
Par Tumhe Likh Nahi Paun, Mai Usaka Nam
Hay Ram, Hay Ram
Kuchh Likha Han Kya Likha
Goom Hai Kisi Ke Pyar Me, Dil Subah Sham
Par Tumhe Likh Nahi Paun, Mai Usaka Nam
Hay Ram, Hay Ram
Achchha, Age Kya Likhun, Age

Socha Hai Ek Din Mai Usase Milake
Kaha Dalun Apane Sab Hal Dil Ke
Aur Kar Dun Jivan Usake Havale
Phir Chhod De Chahe Apana Bana Le
Ab To Jaise Bhi Mera Ho Ajam
Goom Hai Kisi Ke Pyar Me, Dil Subah Sham
Par Tumhe Likh Nahi Paun, Mai Usaka Nam
Hay Ram, Hay Ram
Likh Liya Han Zara Padhake To Sunao

Chaha Hai Tumane Jis Bavari Ko
Vo Bhi Sajanava Chahe Tumhi Ko
Naina Uthae To Pyar Samajho
Palake Jhuka De To Iqarar Samajho
Rakhati Hai Kab Se Chhupa Chhupa Ke, Kya
Apane Hotho Me Piya Tera Nam
Goom Hai Kisi Ke Pyar Me, Dil Subah Sham
Par Tumhe Likh Nahi Paun, Mai Usaka Nam
Hay Ram, Hay Ram

Song Lyrics in Hindi Font/Text

किशोर: गुम है किसी के प्यार में, दिल सुबह शाम
पर तुम्हें लिख नहीं पाऊँ, मैं उसका नाम
हाय राम, हाय राम
रंधीर: कुछ लिखा?
रेखा: हाँ
रंधीर: क्या लिखा?
लता
: गुम है किसी के प्यार में, दिल सुबह शाम
पर तुम्हें लिख नहीं पाऊँ, मैं उसका नाम
हाय राम, हाय राम
रेखा: अच्छा, आगे क्या लिखूँ?
रंधीर: आगे?

किशोर: सोचा है एक दिन मैं उससे मिलके
कह डालूँ अपने सब हाल दिल के
और कर दूँ जीवन उसके हवाले
फिर छोड़ दे चाहे अपना बना ले
मैं तो उसका रे हुआ दीवाना
अब तो जैसा भी मेरा हो अंजाम

गुम है किसी के प्यार में, दिल सुबह शाम
पर तुम्हें लिख नहीं पाऊँ, मैं उसका नाम,
हाय राम, हाय राम
रंधीर: लिख लिया?
रेखा: हाँ
रंधीर: ज़रा पढ़के तो सुनाओ

लता: चाहा है तुमने जिस बावरी को
वो भी सजनवा चाहे तुम्हीं को
नैना उठाए तो प्यार समझो
पलकें झुका दे तो इक़रार समझो
रखती है कब से छुपा छुपा के
रंधीर: क्या?
लता: अपने होंठों में पिया तेरा नाम

गुम है किसी के प्यार में, दिल सुबह शाम
पर तुम्हें लिख नहीं पाऊँ, मैं उसका नाम
हाय राम, हाय राम

Leave A Reply

Your email address will not be published.