Take a fresh look at your lifestyle.

Dil Ka Mizaaj Ishqiya Lyrics

0 63

Dil Ka Mizaaj Ishqiya Lyrics

Song Lyrics from the movie Dedh Ishqiya starring Arshad Warsi, Naseeruddin Shah, Madhuri Dixit, Huma Qureshi, Vijay Raaz. The film was released in the year 2014. Music was composed by Vishal Bhardwaj and lyrics were penned by Gulzar.

Movie Details

Movie: Dedh Ishqiya

Singer/Singers: Rahat Fateh Ali Khan

Music Director: Vishal Bhardwaj

Lyricist: Gulzar

Actors/Actresses: Arshad Warsi, Naseeruddin Shah, Madhuri Dixit, Huma Qureshi, Vijay Raaz

Year/Decade: 2014

Music Label: Shemaroo

Song Lyrics in English Text

Ruk Ruk Ke Kehte Hai, Jhuk Jhuk Ke Rehte Hai
Ruk Ruk Ke Kehte Hai, Jhuk Jhuk Ke Rehte Hai
Dil Ka Mizaaj Ishqiya, Dil Ka Mizaaj Ishqiya
Tanha Hai Logo Me, Logo Me Tanhaayi
Dil Ka Mizaaj Ishqiya, Dil Ka Mizaaj Ishqiya
Chote Bhi Khaaye Aur Gungunaaye
Aisa Hi Tha Ye, Aisa Hi Hai Ye
Masti Me Rehta Hai Mastaana Saudayi
Dil Ka Mizaaj Ishqiya, Dil Ka Mizaaj Ishqiya

Sharmeela Sharmeela Parde Me Rehta Hai
Dardo Ke Chhonke Bhi Chupke Se Sehta Hai
Nikalta Nahi Hai Gali Se Kabhi
Nikal Jaaye To Dil Bhatak Jaata Hai
Arey Bachcha Hai Aakhir Bahek Jaata Hai
Khwaabo Me Rehta Hai Bachpan Se Harjaai
Dil Ka Mizaaj Ishqiya, Dil Ka Mizaaj Ishqiya

Gusse Me Balkhana, Gairo Se Jal Jaana
Mushqil Me Aaye To Waado Se Tal Jaana
Ulajhne Ki Isko Yu Aadat Nahi
Magar Bewafa Ri Sharafat Nahi
Ye Jazbaati Ho Ke Chhalak Jaata Hai
Ishq Me Hoti Hai Thodi Si Garmaayi
Dil Ka Mizaaj Ishqiya, Are Dil Ka Mizaaj Ishqiya

Ruk Ruk Ke Ishqiya, Jhuk Jhuk Ke Ishqiya
Ruk Ruk Ke Kehte Hai, Kehte Hai
Jhuk Jhuk Ke Rehte Hai, Rehte Hai
Ish Ish Ishqiya Ishqiya Ishqiya

Song Lyrics in Hindi Font/Text

रुक रुक के कहते हैं
झुक झुक के रहते हैं

रुक रुक के कहते हैं
झुक झुक के रहते हैं
दिल का मिज़ाज इश्क़िया
दिल का मिज़ाज इश्क़िया

तनहा हैं लोगों में
लोगों में तन्हाई
दिल का मिज़ाज इश्क़िया
दिल का मिज़ाज इश्क़िया
चोटें भी खाएं
और गुनगुनायें
ऐसा ही था ये
ऐसा ही है ये

मस्ती में रहता है
मस्ताना सौदाई
दिल का मिज़ाज इश्क़िया
अरे दिल का मिज़ाज इश्क़िया

शर्मीला शर्मीला
परदे में रहता है…
दर्दों के झोंके भी
चुपके से सहता है
निकलता नहीं है गली से कभी
निकल जाये तो दिल भटक जाता है

अरे बच्चा है अखिरर
बहक जाता है…
ख़्वाबों में रहता है
बचपन से हरजाई
दिल का मिज़ाज इश्क़िया
दिल का मिज़ाज इश्क़िया
आआ

गुस्से में बलखाना
गैरों से जल जाना
मुश्किल में आये तो
वादों से टल जाना
उलझने की इसको
यूँ आदत नहीं
मगर बेवफाई
शराफत नहीं
ये जज़बाती होक
छलक जाता है

इश्क़ में होती है
थोड़ी सी गर्मायी
दिल का मिज़ाज इश्क़िया
अरे दिल का मिज़ाज इश्क़िया

रुक रुक के इश्क़िया
झुक झुक के इश्क़िया
रुक रुक के कहते हैं
कहते हैं कहते हैं
झुक झुक के रहते हैं
रहते हैं इश्क़
इश्क़ इश्क़ इश्क़िया
इश्क़िया इश्क़िया

Leave A Reply

Your email address will not be published.