Take a fresh look at your lifestyle.

Dheere Se Aaja Ankhiyan Mein Lyrics

0 292

Dheere Se Aaja Ankhiyan Mein Lyrics

Romantic song from the movie Albela starring Bhagwan, Geeta Bali, Pratima Devi, Bimla Kumari, Sunder, Badri Prasad. The film was released in the year 1951. Music was composed by C Ramachandra and lyrics were penned by Rajindra Krishan

Movie Details

Movie: Albela

Singer/Singers: Lata Mangeshkar, Mohammed Rafi, C Ramachandra

Music Director: C Ramachandra

Lyricist: Rajindra Krishan

Actors/Actresses: Bhagwan, Geeta Bali, Pratima Devi, Bimla Kumari, Sunder, Badri Prasad

Year/Decade: 1951

Music Label: Saregama India Limited

Song Lyrics in English Text

Dhire Se Aaja Ri Ankhiyan Me
Nindiya Aaja Ri Aaja, Dhire Se Aaja
Dhire Se Aaja Ri Ankhiyan Me
Nindiya Aaja Ri Aaja, Dhire Se Aaja
Chupke Nainan Ki Bagiyan Me
Nindiya Aaja Ri Aaja, Dhire Se Aaja

Lekar Suhane Sapno Ki Kaliya
Sapno Ki Kaliya
Lekar Suhane Sapno Ki Kaliya
Aake Basa De Palko Ki Galiya
Palako Ki Chhoti Si Galiyan Me
Nindiya Aaja Ri Aaja, Dhire Se Aaja
Dhire Se Aaja Ri Ankhiyan Me
Nindiya Aaja Ri Aaja, Dhire Se Aaja
Chupke Nainan Ki Bagiyan Me
Nindiya Aaja Ri Aaja, Dhire Se Aaja

Taro Se Chhup Kar Taro Se Chori, Taro Se Chori
Taro Se Chhup Kar Taro Se Chori
Deti Hai Rajni Chanda Ko Lori
Hansata Hai Chanda Bhi Nindiya Me
Nindiya Aaja Ri Aaja, Dhire Se Aaja
Dhire Se Aaja Ri Ankhiyan Me
Nindiya Aaja Ri Aaja, Dhire Se Aaja
Chupke Nainan Ki Bagiyan Me
Nindiya Aaja Ri Aaja, Dhire Se Aaja

Song Lyrics in Hindi Font/Text

धीरे से आजा री अँखियन में
निंदिया आजा री आजा, धीरे से आजा
छोटे से नैनन की बगियन में
निन्दिया आजा री आजा, धीरे से आजा

ओ …
लेकर सुहाने सपनों की कलियाँ, सपनों की कलियाँ
आके बसा दे पलकों की गलियाँ, पलकों की गलियाँ
पलकों की छोटी सी गलियन में
निन्दिया आजा री आजा, धीरे से आजा
धीरे से …

ओ …
तारों से छुप कर तारों से चोरी, तारों से चोरी
देती है रजनी चँदा को लोरी, चँदा को लोरी
हँसता है चँदा भी निन्दियन में
निन्दिया आजा री आजा, धीरे से आजा
धीरे से …

धीरे से आजा री अँखियन में
निंदिया आजा री आजा, धीरे से आजा
छोटे से नैनन की बगियन में
निन्दिया आजा री आजा, धीरे से आजा

ओ …
आँखें तो सब की हैं इक जैसी
जैसी अमीरों की, गरीबों की वैसी
पलकों की सूनी सी गलियन में
निन्दिया आजा री आजा, धीरे से आजा
धीरे से …

ओ …
जगती है अँखियाँ सोती है क़िस्मत, सोती है क़िस्मत
दुश्मन गरीबों की होती है क़िस्मत, होती है क़िस्मत
दम भर गरीबों की कुटियन में
निन्दिया आजा री आजा, धीरे से आजा
धीरे से …

Leave A Reply

Your email address will not be published.