Take a fresh look at your lifestyle.

Ai Qaatib-E-Taqadir Mujhe Itanaa Bataa De | ए कातिब इ तक़्दीर Song Lyrics

0 28

Ai Qaatib-E-Taqadir Mujhe Itanaa Bataa De, Song Lyrics from Movie Meri Bahen. This Song sung by K I Saigal, Pankaj Mullick, Utpala Sen. Music given by Pankaj Mullick & Lyrics written by Pandit Bhushan. Star cast of this movie are K L Sehgal, Sumitra Devi, Nawab, Akhtar Jahan, Tulsi Chakravarty, Devika Mukherjee, Hiralal, Tandon, Rajlaxmi Shorey

Movie Details

Movie: Meri Bahen

Singer/Singers: K I Saigal, Pankaj Mullick, Utpala Sen

Music Director: Pankaj Mullick

Lyricist: Pandit Bhushan

Actors/Actresses: K L Sehgal, Sumitra Devi, Nawab, Akhtar Jahan, Tulsi Chakravarty, Devika Mukherjee, Hiralal, Tandon, Rajlaxmi Shorey

Year/Decade: 1944

Music Label: Saregama Music

Song Lyrics in English Text

Ai Qaatib-e-taqadir Mujhe Itanaa Bataa De -2
Kyo Mujhase Kafaa Hai Tu, Kyaa Maine Kiyaa Hai

Auro Ko Khushi Mujhako Fakat Dard-o-raj-o-gam
Duniyaa Ko Hansi Aur Mujhe Ronaa Diyaa Hai
Kyaa Maine Kiyaa Hai -2
Kyo Mujhase Kafaa Hai Tu, Kyaa Maine Kiyaa Hai

Hisse Me Sabake Aa_i Hai
Hisse Me Sabake Aa_i Hai Rangin Bahaare
Bad-faqtiyaan Lekin Mujhe Shishe Me Utaare
Pite Hai
Pite Hai Rog Roz-o-shab Muzzarrato Ki May
Mai Hun Ke Sataa Khun-e-jigar Maine Piyaa Hai

Kyaa Maine Piyaa Hai
Kyaa Maine Piyaa Hai

Thaa Jinake Dumak Dam Se Ye Aabaad Aashiyaa
Ho Chahachahaati
Ho Chahachahaati Bulabule Jaane Ga_i Kahaan
Juganu Ki Chamak Hai Na Sitaaro Ki Roshani
Is Ghup Adhere Me Hai Meri Jaan Par Bani
Kyaa Thi
Kyaa Thi
Kyaa Thi Bataa Ke Jisaki Sazaa Tune Mujhako Di

Kyaa Thaa
Kyaa Thaa Gunah Ke Jisakaa Badalaa Mujhase Liyaa Hai

Kyaa Maine Kiyaa Hai
Kyaa Maine Kiyaa Hai
Kyo Mujhase Kafaa Hai Tu, Kyaa Maine Kiyaa Hai

Song Lyrics in Hindi Text

ए कातिब इ तक़्दीर
मुझे इतना बता दे
ए कातिब इ तक़्दीर
मुझे इतना बता दे इतना बता दे
क्यों मुझसे खफा है तू
क्या मैंने किया है
औरों को खुशी
मुझको फ़क़त दर्दो रंजो ग़म
दुनिया को हंसी
और मुझे रोना दिया है
क्या मैंने किया है
क्या मैंने किया है
क्यों मुझसे खफा है तू
क्या मैंने किया है

हिस्से में सबके आयीं हैं
हिस्से में सबके आयीं हैं
रंगीन बहारें
बाद-फ़क़्तियाँ लेकिन
मुझे शीशे में उतारें
पीते हैं पीते हैं
रोग रोज़-ो-शब् मुसर्रतों की मई
मैं हूँ के सदा
खून-इ-जिगर मैंने पिया है
क्या मैंने किया है
क्या मैंने किया है

था जिनके दाम कदम से
ये ाबाद आशियाँ
वो चहचहाती
वो चहचहाती बुलबुलें
जाने गयीं कहाँ
जुगनू की चमक है
न सितारों की रौशनी
इस घुप अँधेरे में है
मेरी जान पर बनी
क्या थी क्या थी
क्या थी खता के
जिसकी सज़ा तूने मुझको दी
क्या था क्या था गुनाह के
जिसका बदला मुझसे लिया है
क्या मैंने किया है
क्या मैंने किया है
क्यों मुझसे खफा है तू
या मैंने किया है.

Leave A Reply

Your email address will not be published.