Take a fresh look at your lifestyle.

Ae Dil Mere ऐ दिल मेरे Song Lyrics – Shahzeb Tejani

0 126

Ae Dil Mere Song Lyrics by Shahzeb Tejani. This song is sung by Shahzeb Tejani and the it was released in the year 2021. Music was composed by Harsh Mahadeshwar and lyrics were penned by Shahzeb Tejani.

Movie Details

Singer/Singers: Shahzeb Tejani

Music Director: Harsh Mahadeshwar

Lyricist: Shahzeb Tejani

Year/Decade: 2021

Music Label: Zee Music Company

Song Lyrics in English Text

Na na na na x(3)

Ae dil mere kyun tu roye
Aaja zara khwaabon pe roye
Sheeshe jo dil ke bikhare huye hai
Aaja inko chunle zara

Ae dil mere kyun tu khafa hai
Jo hone ko tha wo ho chuka hai
Yeh tere sach ki inteha hai
Ae dil mere tu sun le zara

Taqdeer mein jo na likha
Usko tu hai kyun dhoondh raha
Zakhm jo dil ko hai lage
Marham bhi to hai saamne

Khud se juda kyun hai
Saya bhi to tu hai
Manzil ke kadamon tale
Aisi raah chale

Ae dil mere usko bhulade
Jo tere aankhon se ashqe bahaye
Waqt ki tarah chalte rahe hum
Lamhon se khushiyan bun le zara

Ae dil mere kyun tu khafa hai
Jo hone ko tha wo ho chuka hai
Yeh tere sach ki inteha hai
Ae dil mere tu sun le zara

Aawaaz banke wo kahin
Mujhmein hai goonje aaj bhi
Khwaabon ko kaise sambhalu
Bhikhare hai usme hi kahin

Dil ko sukoon na mile
Uske hi yaadon mein jiye
Baarish ki tarah wo gire
Mujhmein kyun aake thehare

Ae dil mere ik iltza hai
Dhadkan teri na bewajah hai
Saanso ko apne seene mein bharke
Raahon ko apni dhoondhe zara

Ae dil mere kyun tu khafa hai
Jo hone ko tha wo ho chuka hai
Yeh tere sach ki inteha hai
Ae dil mere tu sun le zara

Song Lyrics in Hindi Text

ऐ दिल मेरे क्यों तू रोये
आजा ज़रा ख्वाबों के रोये
शीशे जो दिल के बिखरे हुए हैं
आजा इनको चुन ले ज़रा

ऐ दिल मेरे क्यों तू खफा है
जो होने को था वो हो चुका है
ये तेरे सच की इन्तेहां है
ऐ दिल मेरे तू सुनले जरा

तकदीर में जो न लिखा
उसको तू है क्यों ढूंढ रहा
ज़ख्म जो दिल को है लगे
मरहम भी तो है सामने

खुद से जुदा क्यों है
साया भी तो तू है
मंज़िल का क़दमों तले
ऐसी राह चले

ऐ दिल मेरे उसको भुला दे
जो तेरे आँखों में अश्क बहाये
वक़्त की तरह जलते रहे हम
लम्हों से खुशियाँ बुन ले ज़रा

ऐ दिल मेरे क्यों तू खफा है
जो होने को था वो हो चुका है
ये तेरे सच की इन्तेहां है
ऐ दिल मेरे तू सुनले जरा

आवाज़ बांके वो कहीं
मुझमें है गूंजे आज भी
ख़्वाबों को कैसे सम्भालूं
बिखरे हैं उसमे ही कहीं

दिल को सुकून ना मिले
उसके ही यादों में जिये
बारिश की तरह वो गिरे
मुझमें क्यों आके ठहरे

ऐ दिल मेरे इक इल्तेजा हैं
धड़कन तेरी ना बेवजह है
सांसों को अपने सीने में भर के
राहों को अपनी ढूंढ ले ज़रा

ऐ दिल मेरे क्यों तू खफा है
जो होने को था वो हो चुका है
ये तेरे सच की इन्तेहां है
ऐ दिल मेरे क्यों तू रोये

Leave A Reply

Your email address will not be published.